UPI Full Form in Hindi | UPI का फुल फॉर्म क्या होता है।

इस पोस्ट में हम जानेगे की UPI Full Form in Hindi क्या होता है ? UPI का क्या कार्य है। UPI से हमें क्या क्या फायदे है।

UPI Full Form क्या होता है।

UPI का Full Form -Unified Payments Interface होता है ! 

Cashless Economy को बढ़ावा देने के लिए हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का सपना था, जिसके कारन भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने के लिए नोटबन्दी करना पड़ा था। जिससे आम जनता को थोड़ा परेशानी तो हुई थी , लेकिन इससे ज्यादा परेशानी भ्रष्ट लोगो को हुआ जो की कालाधन जमा किये हुए थे। नोटबंदी के बाद से ही Online पैसा transfer का चलन बढ़ गया , जो की एक सुरक्षित प्रक्रिया माना जाता है। 

UPI Full Form in Hindi | UPI का फुल फॉर्म क्या होता है।

हालांकि Online Transfer में Fraud काफी होने लगा है ,लेकिन हमें काफी सुरक्षित रहने की जरुरत है, अपना OTP किसी भी सूरत में किसी को नहीं बताना चाहिए। अधिकतर फ्रॉड आप अपना OTP बताने के कारण ही होता है , इसलिए सतर्कता बहुत ही जरुरी है और अपना OTP कभी भी किसी को न बताये। 

UPI Full Form –  Unified Payments Interface

इसे हिंदी में एकीकृत भुगतान इंटरफ़ेस के नाम से जाना जाता है ! इसका काम एक बैंक से दूसरे बैंक में पैसा Transfer करने के काम आता है ! 

इसे Online Payment के नाम से भी जाना जाता है ! आज के युग  में हम स्मार्टफोन इस्तेमाल करते हैं ! हर बैंक का अपना एक UPI प्लेटफॉर्म होता है ! बिजली का बिल जमा करना हो या किसी को भी पेमेंट करनी हो इसका इस्तेमाल करते हैं ! इसमें एक पिन नंबर इस्तेमाल किया जाता है ! IFSC कोड भी डालना पड़ता  है ! UPI किसी भी बैंक में ऑनलाइन पैसा भेजने या प्राप्त करने का आसान सा तरीका है !

UPI को अधिकतर सभी बैंक जैसे -PNB, ICIC , HDFC, SBI, या BOB आदि कई बैंक सुविधा देते हैं ! UPI को Active करने के लिये एक मोबाइल नंबर बैंक अकाउंट में देना पड़ता है ! इससे आप ऑनलाइन शॉपिंग भी कर सकते हैं ! अपना पैसा आप एक खाते से दूसरे खाते में ट्रांसफर कर सकते हैं ! आपको ज्यादा नगद पैसा रखने की जरूरत नहीं पड़ेगी ! आप अपना पैसा दूसरे को आसानी से ट्रांसफर कर सकते हैं ! 

What is the function of UPI? UPI का कार्य क्या है ?

UPI अकेला ऐसा प्लेटफॉर्म है जो आप अलग अलग बैंको से कई सेवाओ को उपयोग में ला सकते हैं ! इसमें आपको Internet की आवश्कता पड़ती है ! UPI Platform को NPCI (National Payment Corporation Of India )द्वारा विकसित किया गया है ! UPI Platform की देखरेख की जिम्मेदारी Reserve Bank of India एवं Indian Bank Association के पास है !

👉👉👉SSC Full Form in Hindi

UPI Platform के माध्यम से हम बहुत सारे सर्विस डिपार्टमेंट का बिल का भी भुगतान बहुत ही आसान तरीके से बैंक के माध्यम से करते है। 

  • बिजली बिल 
  • मोबाइल बिल 
  • टीवी केबल बिल 
  • मोबाइल रिचार्ज 
  • LIC बिल 
  • क्रेडिड कार्ड बिल 
  • वाटर बिल 
  • एलपीजी GAS बिल 

इत्यादि। 

UPI Platform में कई सारे Popular App है, जिसके द्वारा भारत में एक बैंक से दूसरे बैंक में पैसा Transfer किया जाता है। जिसमे कुछ App का नाम नीचे देख सकते है। :-

  • Bhim  App 
  • Google Tez 
  • Phonepay 
  • Paytm 
  • Mobikwik 

इत्यादि ,

UPI Enabled बैंको की सूचि :-

  • Bank of Maharashtra
  • Canara Bank
  • Catholic Syrian Bank
  • DCB
  • Federal Bank
  • Karnataka Bank KBL
  • Punjab National Bank
  • South Indian Bank
  • United Bank of India
  • UCO Bank
  • State Bank of India
  • Kotak Mahindra Bank
  • ICICI Bank
  • HDFC
  • Andhra Bank
  • Axis Bank
  • Union Bank of India
  • Vijaya Bank
  • Standard Chartered Bank
  • Allahabad Bank
  • HSBC
  • Bank of Baroda
  • IndusInd
  • OBC
  • TJSB
  • IDBI Bank
  • RBL Bank
  • Yes Bank
  • IDFC

 👉👉👉DM Full Form in Hindi

What is Unified Payments Interface in Banking (UPI Full Form)? बैंकिंग में एकीकृत भुगतान इंटरफ़ेस क्या है?

Unified Payments Interface (UPI Full Form) नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) द्वारा विकसित एक वास्तविक समय भुगतान प्रणाली है जो भारत में बैंकों के बीच तत्काल Fund Transfers की सुविधा प्रदान करती है।

यह व्यक्तियों और व्यवसायों को अपने स्मार्टफोन का उपयोग करके उसका भुगतान करने में और धन प्राप्त करने के लिए एक आसान और सुरक्षा प्रदान करता है। UPI उपयोगकर्ताओं को कई बैंक खातों को एक ही मोबाइल Application से जोड़ने में सुविधा प्रदान करता है।

जिससे उनके लिए अपने वित्त का प्रबंधन करना सुविधाजनक होता है। यह एकल पहचानकर्ता के सिद्धांत पर काम करता है जहां उपयोगकर्ता एक भुगतान पता भी बना सकते हैं जो उनके भुगतान पहचानकर्ता के रूप में कार्य करता है।

इससे लेनदेन के दौरान बैंक खाता संख्या या आईएफएससी कोड जैसी संवेदनशील जानकारी साझा करने की आवश्यकता समाप्त हो जाती है।

यूपीआई के साथ उपयोगकर्ता केवल प्राप्तकर्ता का VPA प्रदान करके या प्राप्तकर्ता के वीपीए से जुड़े QR Code को स्कैन करके भुगतान शुरू कर सकते हैं। वह अन्य पहचान विधियों जैसे मोबाइल नंबर या बैंक खाता विवरण का उपयोग करके भी पैसे भेज सकते हैं।

यूपीआई व्यक्ति-से-व्यक्ति भुगतान, व्यक्ति-से-व्यापारी भुगतान और बिल भुगतान सहित लेनदेन प्रकारों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है। यह विभिन्न भुगतान विकल्पों का भी समर्थन करता है, जिसमें तत्काल भुगतान सेवा , खाता-से-खाता स्थानांतरण और कई बैंक खातों को लिंक करने की क्षमता शामिल है।

यूपीआई के प्रमुख लाभों में से एक इसकी अंतरसंचालनीयता है। जो उपयोगकर्ताओं को विभिन्न बैंकों के बीच निर्बाध रूप से पैसे भेजने और प्राप्त करने की अनुमति देता है। इसने भुगतान प्रक्रिया को सरल बना दिया है।

नकदी पर निर्भरता कम कर दी है और भारत में डिजिटल भुगतान को अपनाने में तेजी ला दी है। अपने उपयोगकर्ता के अनुकूल इंटरफेस, कम लेनदेन लागत और उच्च स्तर की सुरक्षा के कारण यूपीआई ने काफी लोकप्रियता हासिल की है।

Who is the Founder of UPI (UPI Full Form)? UPI के संस्थापक कौन हैं?

Unified Payments Interface (UPI Full Form) की स्थापना National Payments Corporation of India (NPCI) द्वारा की गई थी। एनपीसीआई भारत में खुदरा भुगतान और निपटान प्रणालियों के संचालन के लिए एक प्रमुख संगठन है और इसकी स्थापना 2008 में की गई थी। भारत में डिजिटल भुगतान में क्रांति लाने और वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अप्रैल 2016 में एनपीसीआई द्वारा यूपीआई लॉन्च किया गया था।

What is the Beginning of UPI in India? भारत में UPI की शुरुआत क्या है?

Unified Payments Interface (UPI Full Form) को भारत में नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) द्वारा अप्रैल 2016 में लॉन्च किया गया था। NPCI भारत में UPI सहित विभिन्न भुगतान प्रणालियों के विकास और कार्यान्वयन के लिए जिम्मेदार है। UPI को भारत में व्यक्तियों और व्यवसायों के लिए एक सहज और त्वरित भुगतान मंच प्रदान करने लेनदेन के तरीके में सुधार करने और डिजिटल तरीके से भुगतान को बढ़ावा देने के लिए पेश किया गया था।

ATAL PENSION YOJANA AGNEEPATH YOJANA SAKSHAM YOJANA
UCO Full Form TDS Full Form ISP Full Form

When was UPI Launched? UPI कब लॉन्च किया गया था?

UPI को भारत में 11 अप्रैल 2016 को लॉन्च हुआ था। इसे डिजिटल भुगतान में क्रांति लाने और देश में बैंकों के बीच तत्काल फंड ट्रांसफर के लिए एक एकीकृत मंच प्रदान करने के लिए National Payments Corporation of India द्वारा पेश किया गया था। अपने लॉन्च के बाद से UPI ने व्यापक लोकप्रियता हासिल की है और यह भारत में सबसे व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली भुगतान प्रणालियों में से एक है।

What are the Features of UPI (UPI Full Form)? UPI की क्या विशेषताएं हैं?

Unified Payments Interface (UPI Full Form) कई सुविधाएँ प्रदान करता है जो भारत में एक लोकप्रिय भुगतान प्रणाली माना जाता हैं। यहां UPI की कुछ प्रमुख विशेषताएं दी गई हैं:-

  • Instant Fund Transfer: तत्काल फंड ट्रांसफर:
    UPI बैंक खातों के बीच वास्तविक समय और तत्काल धन हस्तांतरण को सक्षम बनाता है। उपयोगकर्ता सप्ताहिक और छुट्टियों पर भी तुरंत धनराशि भेजकर और प्राप्त करा सकते हैं।
  • Single Identifier: एकल पहचानकर्ता:
    UPI एक एकल पहचानकर्ता के दृष्टिकोण का उपयोग करता है जहां उपयोगकर्ता अपने बैंक खातों से जुड़ा भुगतान पता (VPA) बनाते हैं। वीपीए लेनदेन के दौरान बैंक खाता संख्या जैसी संवेदनशील जानकारी साझा करने की आवश्यकता को समाप्त कर देता है।
  • Mobile:मोबाइल
    भुगतान यूपीआई मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से संचालित किया जाता है जिससे उपयोगकर्ता अपने Smartphone का उपयोग करके लेनदेन कर सकते हैं। यह उपयोगकर्ताओं को सुविधा और पहुंच प्रदान करता है। क्योंकि आप कभी भी और लेनदेन कर सकते हैं।
  • Linking Multiple Bank Accounts: एकाधिक बैंक खाते को लिंक करना:
    उपयोगकर्ता एक ही UPI एप्लिकेशन से कई बैंक खातों को भी लिंक कर सकते हैं। यह सुविधा उन्हें खातों के बीच स्विस करने और लेनदेन करने के लिए वांछित खाता चुनने की अनुमति देती है।
  • QR Code Payment: क्यूआर कोड भुगतान:
    UPI क्यूआर कोड आधारित भुगतान का समर्थन भी करता है। जहां उपयोगकर्ता लेनदेन शुरू करने के लिए प्राप्तकर्ता के VPA या व्यापारी के खाते से जुड़े क्यूआर कोड को स्कैन कर सकते हैं। यह भुगतान प्रक्रिया को सरल बनाता है और भुगतान के विवरण की मैन्युअल प्रविष्टि की आवश्यकता को समाप्त करता है।
  • Availability: उपलब्धता:
    यूपीआई लेनदेन 24 घंटे सप्ताह के 7 दिन किये जा सकते हैं। यह उपयोगकर्ताओं को बैंकिंग घंटों या छुट्टियों से प्रतिबंधित किए बिना अपनी सुविधानुसार भुगतान करने की अनुमति देता है।
  • Transaction History: लेनदेन इतिहास:
    UPI एप्लिकेशन एक लेनदेन इतिहास सुविधा देता हैं जो उपयोगकर्ताओं को अपनी भुगतान गतिविधि को ट्रैक करने की अनुमति भी देता है। उपयोगकर्ता पिछले लेनदेन का विवरण देख सकते हैं। जिसमें लेनदेन राशि, तिथियां और प्राप्तकर्ता शामिल हैं।
  • Bill Payment: बिल का भुगतान:
    यूपीआई उपयोगकर्ता को सीधे UPI एप्लिकेशन के माध्यम से उपयोगिता बिल, Mobile Recharge और बीमा प्रीमियम जैसे बिलों का भुगतान करने में सक्षम बनाता है। यह सुविधा भुगतान विकल्पों को संकेत करती है और विभिन्न बिलों के लिए वन-स्टॉप समाधान प्रदान करती है।
  • Security Measures: सुरक्षा उपाय:
    यूपीआई में दो कारक प्रमाणीकरण, मोबाइल व्यक्तिगत पहचान संख्या सत्यापन और एन्क्रिप्शन प्रोटोकॉल सहित कई सुरक्षा उपाय शामिल हैं। ये उपाय लेनदेन की सुरक्षा और अखंडता सुनिश्चित करते हैं।इन सुविधाओं ने UPI को अपनाने और भारत में डिजिटल भुगतान को बदलने में इसकी सफलता में योगदान दिया है।

How does UPI Work? यूपीआई कैसे काम करता है?

Unified Payments Interface (UPI Full Form) एक सरल और सुरक्षित प्रक्रिया से काम करता है जो भारत में बैंकों के बीच तत्काल Fund Transfer की सुविधा देता है। यूपीआई कैसे काम करता है:-

  • Registration: पंजीकरण:
    उपयोगकर्ताओं को अपने बैंक पक्ष सेवा प्रदाता द्वारा प्रदान किया गया UPI सक्षम मोबाइल एप्लिकेशन डाउनलोड करना होगा। उन्हें आवश्यक विवरण प्रदान करके और एक यूपीआई व्यक्तिगत पहचान संख्या (यूपीआई-पिन) सेट करके अपने बैंक खाते को यूपीआई एप्लिकेशन से लिंक करना होगा।
  • Virtual Payment Address (VPA): वर्चुअल पेमेंट एड्रेस (वीपीए):
    पंजीकरण करने के बाद उपयोगकर्ता एक अद्वितीय वर्चुअल पेमेंट Address (वीपीए) बना सकते हैं जो उनके भुगतान पहचानकर्ता के रूप में कार्य करता है।
  • Transaction Initiation: लेन-देन आरंभ करना:
    लेन-देन आरंभ करने के लिए उपयोगकर्ताओं के पास कई विकल्प होते हैं:
  • VPA: वीपीए:
    उपयोगकर्ता प्राप्तकर्ता का वीपीए उदाहरण के लिए example@bankname प्रदान कर सकते हैं और भुगतान शुरू करने के लिए लेनदेन राशि दर्ज कर सकते हैं।
  • QR Code: क्यूआर कोड:
    उपयोगकर्ता प्राप्तकर्ता (व्यापारी या व्यक्ति) द्वारा प्रदर्शित क्यूआर कोड को स्कैन कर सकते हैं। जो उनके वीपीए से जुड़ा हुआ है। क्यूआर कोड में वीपीए और लेनदेन राशि सहित भुगतान विवरण शामिल हैं।
  • Account Number and IFSC: खाता संख्या और आईएफएससी:
    उपयोगकर्ता प्राप्तकर्ता का बैंक खाता नंबर और बैंक का आईएफएससी (भारतीय वित्तीय प्रणाली कोड) दर्ज करके लेनदेन शुरू कर सकते हैं।
  • Authorization and Certification: प्राधिकरण और प्रमाणीकरण:
    लेनदेन शुरू करने के बाद उपयोगकर्ताओं को अपने यूपीआई-पिन का उपयोग करके इसे प्रमाणित करना होगा। UPI पिन लेनदेन को अधिकृत करने के लिए एक पासवर्ड के रूप में कार्य करता है और भुगतान की सुरक्षा सुनिश्चित करता है।
  • Transaction Processing: लेनदेन प्रसंस्करण:
    एक बार लेनदेन अधिकृत हो जाने पर UPI भुगतान संसाधित करने के लिए संबंधित बैंकों के साथ सुरक्षित रूप से संचार करता है। धनराशि प्रेषक के बैंक खाते से डेबिट कर दी जाती है और तुरंत प्राप्तकर्ता के बैंक खाते में जमा कर दी जाती है।
  • Confirmation and Status: पुष्टिकरण और स्थिति:
    लेन-देन के सफल समापन के बाद प्रेषक और प्राप्तकर्ता दोनों को लेन-देन विवरण के संबंध में तत्काल सूचनाएं प्राप्त होती हैं। उपयोगकर्ता UPI एप्लिकेशन में अपने लेनदेन का इतिहास भी देख सकते हैं।

UPI वास्तविक समय में संचालित होता है जो बैंकों के बीच तत्काल और निर्बाध फंड ट्रांसफर प्रदान करता है। यह वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देता है, भुगतान प्रक्रिया को सरल बनाता है और भारत में डिजिटल भुगतान को अपनाने को प्रोत्साहित करता है।

JHARKHAND FASAL YOJANA AYUSHMAN BHARAT YOJANA PM WANI YOJANA
RAM Full Form PNR Full Form PHP Full Form

What are the Benefits of UPI (UPI Full Form)? UPI के क्या फायदे हैं?

Unified Payments Interface (UPI Full Form) कई फायदे हमें प्रदान करता है जिसने भारत में इसकी लोकप्रियता और व्यापक रूप से अपनाने में योगदान दिया है। यहां UPI के कुछ प्रमुख लाभ दिए गए हैं:-

  • Instant and real time transactions: त्वरित और वास्तविक समय लेनदेन:
    UPI बैंक खातों के बीच तत्काल और वास्तविक समय में फंड ट्रांसफर को सक्षम बनाता है। जिससे चेक या NEFT (National Electronic Funds Transfer) जैसी पारंपरिक भुगतान विधियों की आवश्यकता समाप्त हो जाती है। उपयोगकर्ता छुट्टियों पर भी तुरंत पैसे भेज और प्राप्त कर सकते हैं।
  • Easy and Convenient to Use: उपयोग में आसान और सुविधाजनक:
    UPI एक उपयोगकर्ता के अनुकूल और सहज इंटरफ़ेस प्रदान करता है। जिससे सभी पृष्ठभूमि के व्यक्तियों के लिए नेविगेट करना और लेनदेन करना आसान हो जाता है। यह मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से संचालित होता है जिससे उपयोगकर्ता अपने स्मार्टफोन का उपयोग करके भुगतान कर सकते हैं और अपने वित्त का प्रबंधन कर सकते हैं।
  • Single Identifier: एकल पहचानकर्ता:
    UPI एक एकल पहचानकर्ता दृष्टिकोण का उपयोग करता है। जहां उपयोगकर्ता अपने बैंक खातों से जुड़ा एक वर्चुअल भुगतान पता (वीपीए) बनाते हैं। वीपीए लेनदेन के दौरान बैंक खाता संख्या जैसी संवेदनशील जानकारी साझा करने की आवश्यकता को समाप्त करता है, जिससे गोपनीयता और सुरक्षा बढ़ती है।
  • Linking Multiple Bank Accounts: एकाधिक बैंक खाते को लिंक करना:
    उपयोगकर्ता एक ही UPI एप्लिकेशन से कई बैंक खातों को लिंक कर सकते हैं। यह सुविधा लचीलापन प्रदान करती है। जिससे उपयोगकर्ताओं को खातों के बीच स्विच करने और लेनदेन करने के लिए वांछित खाता चुनने की अनुमति मिलती है।
  • Interoperability: इंटरऑपरेबिलिटी:
    यूपीआई बैंकों के बीच इंटरऑपरेबिलिटी को बढ़ावा देता है। जिससे उपयोगकर्ता विभिन्न बैंकों के बीच निर्बाध रूप से पैसे भेज और प्राप्त कर सकते हैं। यह पारंपरिक फंड ट्रांसफर तरीकों की सीमाओं को समाप्त कर देता है, जहां लेनदेन अक्सर एक ही बैंक के खातों तक ही सीमित होते थे।
  • Wide range of transaction types: लेनदेन प्रकारों की विस्तृत श्रृंखला:
    यूपीआई विभिन्न प्रकार के लेनदेन का समर्थन करता है। जिसमें व्यक्ति-से-व्यक्ति भुगतान, व्यक्ति-से-व्यापारी भुगतान और बिल भुगतान शामिल हैं। उपयोगकर्ता उपयोगिताओं, मोबाइल रिचार्ज, बीमा प्रीमियम और अन्य बिलों का भुगतान सीधे UPI एप्लिकेशन के माध्यम से कर सकते हैं।
  • Security Measures: सुरक्षा उपाय:
    UPI उपयोगकर्ताओं के लेनदेन और संवेदनशील जानकारी की सुरक्षा के लिए मजबूत सुरक्षा उपायों को शामिल करता है। इसमें लेनदेन की सुरक्षा और अखंडता सुनिश्चित करने के लिए दो-कारक प्रमाणीकरण, यूपीआई-पिन सत्यापन और एन्क्रिप्शन प्रोटोकॉल शामिल हैं।
  • Low Transaction Cost: कम लेनदेन लागत:
    यूपीआई लेनदेन में न्यूनतम या कोई लेनदेन लागत नहीं होती है जो इसे उपयोगकर्ताओं के लिए लागत प्रभावी भुगतान समाधान बनाती है। यह सामर्थ्य व्यक्तियों और व्यवसायों को अपने वित्तीय लेनदेन के लिए यूपीआई अपनाने के लिए प्रोत्साहित करती है।
  • Promoting Financial Inclusion: वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देना :
    यूपीआई ने भारत में वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसने लाखों बैंकिंग सुविधाओं से वंचित और कम बैंकिंग सुविधा वाले व्यक्तियों को डिजिटल भुगतान सेवाओं तक पहुंच प्रदान की है। जिससे उन्हें औपचारिक वित्तीय प्रणाली में भाग लेने के लिए सशक्त बनाया गया है।

UPI को पूरे भारत में व्यक्तियों, व्यापारियों और व्यवसायों के लिए एक पसंदीदा भुगतान पद्धति बना दिया है। इसने डिजिटल भुगतान परिदृश्य में सफलता मिली है। जिससे लेनदेन सभी के लिए तेज, आसान और अधिक सुलभ हो गया है।

Why was UPI Launched? UPI क्यों लॉन्च किया गया ?

भारत में डिजिटल भुगतान में क्रांति लाने और वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से Unified Payments Interface (UPI Full Form) लॉन्च किया गया था। UPI के लॉन्च के पीछे मुख्य कारण इस प्रकार हैं:-

  • Simplify Digital Payments: डिजिटल भुगतान को सरल बनाएं:
    भुगतान करने के पारंपरिक तरीके जैसे – नकद, चेक और बैंक हस्तांतरण, अक्सर समय लेने वाले होते थे। तत्काल फंड ट्रांसफर के लिए एक सहज और उपयोगकर्ता-अनुकूल मंच प्रदान करके भुगतान प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए यूपीआई की शुरुआत की गई थी।
  • Promotion of cashless economy: कैशलेस अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देना:
    UPI को Cashless अर्थव्यवस्था की ओर बदलाव को प्रोत्साहित करने के लिए भारत सरकार की व्यापक पहल के हिस्से के रूप में लॉन्च किया गया था। एक सुविधाजनक और सुरक्षित डिजिटल भुगतान प्रणाली की पेशकश करके, यूपीआई का उद्देश्य नकद लेनदेन पर निर्भरता को कम करना और भुगतान के डिजिटल तरीकों के उपयोग को बढ़ावा देना है।
  • Enable Financial Inclusion: वित्तीय समावेशन सक्षम करें:
    UPI को सभी व्यक्तियों को डिजिटल भुगतान सेवाओं तक आसान पहुंच प्रदान करके वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के लिए बनाया गया था। जिनमें वह लोग भी शामिल थे जिनके पास पहले बैंकिंग सुविधा नहीं थी या कम बैंकिंग सुविधा थी। UPI ने उपयोगकर्ताओं को अपने बैंक खातों को एक मोबाइल एप्लिकेशन से लिंक करने की अनुमति दी, जिससे वित्तीय सेवाओं और अवसरों की एक श्रृंखला खुल गई।
  • Reduce Transaction Costs: लेन-देन लागत कम करें:
    UPI का उद्देश्य डिजिटल भुगतान से जुड़ी लेन-देन लागत कम करना है। भुगतान प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने और बिचौलियों को खत्म करने से UPI लेनदेन में न्यूनतम या कोई लेनदेन लागत नहीं होती है। इस सामर्थ्य ने डिजिटल भुगतान को व्यक्तियों और व्यवसायों के लिए अधिक सुलभ और आकर्षक बना दिया है।

UPI को भारत में भुगतान के तरीके को बदलने, उन्हें तेज़, आसान और अधिक समावेशी बनाने की दृष्टि से लॉन्च किया गया था। यह डिजिटल भुगतान को अपनाने, वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने और कम नकदी वाली अर्थव्यवस्था की दिशा में भारत की यात्रा को आगे बढ़ाने में सफल रहा है।

Frequently Asked Questions. FAQ ....

UPI Full Form क्या होता है?

UPI का Full Form -Unified Payments Interface होता है ! 

UPI का क्या कार्य हैं ?

UPI अकेला ऐसा प्लेटफॉर्म है जो आप अलग अलग बैंको से कई सेवाओ को उपयोग में ला सकते हैं ! इसमें आपको Internet की आवश्कता पड़ती है ! UPI Platform को NPCI (National Payment Corporation Of India )द्वारा विकसित किया गया है ! UPI Platform की देखरेख की जिम्मेदारी Reserve Bank of India एवं Indian Bank Association के पास है ! बिजली बिल  मोबाइल बिल  टीवी केबल बिल  मोबाइल रिचार्ज  LIC बिल  क्रेडिड कार्ड बिल  वाटर बिल  एलपीजी GAS बिल  इत्यादि। 

UPI के अंतर्गत कौन कौन से बैंक आते हैं ?

Bank of Maharashtra Canara Bank Catholic Syrian Bank DCB Federal Bank Karnataka Bank KBL Punjab National Bank South Indian Bank United Bank of India UCO Bank State Bank of India Kotak Mahindra Bank ICICI Bank HDFC Andhra Bank Axis Bank Union Bank of India Vijaya Bank Standard Chartered Bank Allahabad Bank HSBC Bank of Baroda IndusInd OBC TJSB IDBI Bank RBL Bank Yes Bank IDFC

Leave a Comment