CID Full Form in Hindi / CID क्या होता है?

Here you will get to know about CID full form, what is CID full form in Hindi. What is CID 

CID Full Form in Hindi / CID क्या होता है?

 

Table of Contents

CID Full Form in Hindi क्या होता है ?

 

 CID Full Form

 Crime investigation Department

 

दोस्तों आपको इस पोस्ट में मै बताऊंगा की CID Full Form क्या होता है। CID का क्या काम होता है। CID के सभी सवालो का जबाब हम आपको हिंदी में देंगे। 

CID Full Form in Hindi / CID क्या होता है?


CID Full Form – Crime Investigation Department

 

CID Full Form in Hindi Meaning: सीआईडी का फुल फॉर्म हिंदी में क्या है ?

 जैसा की आपको मालूम है की CID ka Full Form – Crime investigation Department होता है। CID को हम हिंदी में अपराध जांच विभाग कहते है। आपको नाम से ही पता चलता है की अपराध जांच विभाग यानि यह भारत सरकार के राज्य में पुलिस के विभाग में खुफिया जाँच विभाग होता है। यह राज्य सरकार के बहुत ही महत्वपूर्ण विभाग होता है। CID किसी अपराधी की जाँच खुफिया स्तर से करती है। जिसका अपराध काफी गंभीर हो, एवं जटिल हो। CID साधारण भेष धारण कर किसी अपराध की जाँच करती है ताकि कोई पहचान न सके। इसका रिपोर्टिंग डायरेक्ट ADGP यानि Additional Director General of Police करता है। 

 

 NTPC Full Form in Hindi

 SDM Full Form in Hindi

 

(CID Full Form) Crime investigation Department का नाम बहुत ही प्रसिद्ध है। अपने TV में CID Sony में एवं CID Crime Patrol में भी कई कार्यकर्म CID के ऊपर देखा होगा इनका काम जटिल से जटिल अपराध को जाँच करना होता है। 

 ➧ CID की स्थापना ब्रिटिश सरकार ने वर्ष 1902 की थी?

 CID में दो भाग – 1.) स्पेशल ब्रांच तथा 2.) क्राइम ब्रांच होता है। 

  CID का मुखिया ADGP यानि Additional Director General of Police होता है। 

  CID अक्सर गंभीर मामला जो अतिसंबेदंशील हो, जैसे आतंकवाद, जालसाजी, धोखाधडी, दंगा इत्यादि से सम्बंधित हो जिसकी जाँच का जिम्मा सौपा जाता है।  

  CID का मुख्यालय पुणे में स्थित है। 

 

 BBA Full Form in Hindi 

 ED Full Form in Hindi

 

Difference Between CID and CBI: सीआईडी और सीबीआई में अंतर:-

 CID और CBI दोनों में काफी अंतर होता है। दोनों का विभाग अलग अलग है। CID जहा राज्य स्तर के अपराधी की जाँच करती है। वही CBI पुरे देश से लेकर विदेश के स्तर की अपराधी की जाँच करती है। अपराधी की जाँच में CBI देश में सबसे बड़ी संस्था है। 

 

 

 Land Record Bihar

 NCB Full Form in Hindi

 

 

What is The Full Form of CID ? सीआईडी का फुल फॉर्म क्या होता है?

(CID Full Form) Crime investigation Department होता है। लेकिन यह उस संदर्भ पर निर्भर करता है जिसमें इसका उपयोग किया जाता है।

• Criminal Investigation Department: आपराधिक जांच विभाग:
यह एक कानून प्रवर्तन एजेंसी है जो अपराधों की जांच करती है और आपराधिक मुकदमों में उपयोग किए जाने वाले साक्ष्य एकत्र करती है।

• Central Intelligence Bureau: केंद्रीय खुफिया विभाग:
यह भारत सरकार की खुफिया एजेंसी है।

• Central Investigation Department: केंद्रीय जांच विभाग:
यह चीन में सार्वजनिक सुरक्षा मंत्रालय की मुख्य जांच एजेंसी है।

• Chief Inspector of Detectives: गुप्तचरों का मुख्य निरीक्षक:
यह एक उच्च पदस्थ पुलिस अधिकारी होता है जो एक पुलिस बल के भीतर जासूसी कार्य के प्रबंधन और समन्वय के लिए जिम्मेदार होता है।

• Conference on Intelligent Data Understanding: इंटेलिजेंट डेटा अंडरस्टैंडिंग पर सम्मेलन:
यह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और डेटा विश्लेषण के क्षेत्र में अनुसंधान पर केंद्रित एक सम्मेलन है।

• Customer Information Database: ग्राहक सूचना डेटाबेस:
यह एक डेटाबेस है जो ग्राहकों के बारे में जानकारी संग्रहीत करता है, जैसे कि उनके संपर्क विवरण और खरीद इतिहास।

• Call Identification: कॉल पहचान:
यह एक ऐसी सेवा है जो आने वाली कॉल के फ़ोन नंबर को कॉलर आईडी डिस्प्ले पर प्रदर्शित करती है, जिससे प्राप्तकर्ता कॉल का उत्तर देने से पहले कॉलर का नंबर देख सकता है।

What is a Criminal Investigation and Why is It Done? आपराधिक जांच क्या है और यह क्यों की जाती है?

आपराधिक जांच आपराधिक अपराधों के लिए संदिग्धों की पहचान करने, पकड़ने और उन पर मुकदमा चलाने के लिए साक्ष्य एकत्र करने, विश्लेषण करने और प्रस्तुत करने की प्रक्रिया है। यह कानून प्रवर्तन एजेंसियों जैसे पुलिस विभाग, शेरिफ के कार्यालयों और एफबीआई जैसी संघीय एजेंसियों द्वारा संचालित किया जाता है।

Criminal investigations are Conducted For a Variety of Reasons, Including: विभिन्न कारणों से आपराधिक जांच की जाती है, जिनमें शामिल हैं:-

• संदिग्धों को पहचानने और पकड़ने के लिए:

जब कोई अपराध किया जाता है, तो पुलिस को उन्हें न्याय दिलाने के लिए जिम्मेदार व्यक्ति या व्यक्तियों की पहचान करनी चाहिए और उनका पता लगाना चाहिए।

• सबूत इकट्ठा करने के लिए:

एक संदिग्ध पर सफलतापूर्वक मुकदमा चलाने के लिए, पुलिस को ऐसे सबूत इकट्ठा करने और पेश करने चाहिए जो एक उचित संदेह से परे संदिग्ध के अपराध को स्थापित करते हों।

• भविष्य के अपराधों को रोकने के लिए:

अपराधियों की पहचान करके और उन पर मुकदमा चलाकर, कानून प्रवर्तन एजेंसियां भविष्य में इसी तरह के अपराधों को रोकने में मदद कर सकती हैं।

• मामलों को सुलझाना:

कई कानून प्रवर्तन एजेंसियों में मामलों को सुलझाने और पीड़ितों और उनके परिवारों को बंद करने की तीव्र इच्छा होती है।

• सार्वजनिक सुरक्षा बनाए रखने के लिए:

अपराधों की जांच और मुकदमा चलाकर, कानून प्रवर्तन एजेंसियां ​​सार्वजनिक सुरक्षा बनाए रखने और समुदाय के भीतर विश्वास बनाने में मदद करती हैं।

What is The Role of The Inquiry Officer? जांच अधिकारी की भूमिका क्या है?

एक कानून प्रवर्तन एजेंसी के हिस्से के रूप में जांच करने के लिए जिम्मेदार होता है। एक जांच अधिकारी की विशिष्ट भूमिका और जिम्मेदारियां उस एजेंसी के आधार पर भिन्न हो सकती हैं जिसके लिए वे काम करते हैं और जिस प्रकार के मामलों को वे संभालते हैं।

The Role of an Investigating Officer May Include: एक जांच अधिकारी की भूमिका में शामिल हो सकते हैं:-

• Collecting and Analyzing Evidence: सबूत इकट्ठा करना और उसका विश्लेषण करना:

इसमें अपराध के दृश्य से भौतिक सबूत इकट्ठा करना, गवाहों और संदिग्धों का साक्षात्कार करना और दस्तावेजों और अन्य रिकॉर्ड की समीक्षा करना शामिल हो सकता है।

• Development and Implementation of Investigation Strategies: जांच रणनीतियों का विकास और कार्यान्वयन:

जांच अधिकारियों को अपनी जांच कैसे करनी है, इसके लिए एक योजना विकसित करनी चाहिए और फिर उस योजना को क्रियान्वित करना चाहिए।

• Coordinating With Other Agencies: अन्य एजेंसियों के साथ समन्वय करना:

जांच अधिकारियों को जानकारी या सबूत इकट्ठा करने के लिए अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसियों या सरकारी संस्थाओं के साथ काम करने की आवश्यकता हो सकती है।

• Generate Report: रिपोर्ट तैयार करना:

जांच अधिकारी अक्सर लिखित रिपोर्ट तैयार करने के लिए जिम्मेदार होते हैं, जिसमें उनकी जांच के परिणामों का विवरण होता है।

• Testifying in Court: अदालत में गवाही देना:

यदि कोई मामला सुनवाई के लिए जाता है, तो जांच अधिकारियों को उनके निष्कर्षों और उनके द्वारा एकत्र किए गए सबूतों के बारे में अदालत में गवाही देने के लिए बुलाया जा सकता है।

एक जांच अधिकारी की भूमिका उन लोगों की पहचान करने और उन्हें न्याय दिलाने के लिए अपने कौशल और विशेषज्ञता का उपयोग करना है, जिन्होंने अपराध किया है।

ISRO FULL FORM GPS FULL FORM DGP FULL FORM
DVC FULL FORM CFO FULL FORM CA FULL FORM

CID Or CBI Which is Bigger? सीआईडी या सीबीआई बड़ी कौन?

CID और CBI दोनों कानून प्रवर्तन एजेंसियां हैं लेकिन वे एक ही चीज नहीं हैं और सीधे तौर पर तुलनीय नहीं हैं।

(CID Full Form) Crime investigation Department है और एक कानून प्रवर्तन एजेंसी को संदर्भित करता है जो अपराधों की जांच करती है और आपराधिक मुकदमों में इस्तेमाल किए जाने वाले सबूत इकट्ठा करती है। CID का उपयोग भारत और चीन सहित विभिन्न देशों द्वारा किया जाता है, और CID एजेंसियों की विशिष्ट जिम्मेदारियाँ और अधिकार अलग-अलग हो सकते हैं।

CBI केंद्रीय जांच ब्यूरो के लिए खड़ा है और भारत की राष्ट्रीय जांच एजेंसी है। यह भ्रष्टाचार, आर्थिक अपराधों और गंभीर धोखाधड़ी सहित कई संघीय अपराधों की जांच के लिए जिम्मेदार है।

आकार और कार्यक्षेत्र के संदर्भ में, यह कहना सही नहीं है कि एक एजेंसी दूसरी से बड़ी है। उन दोनों की अलग-अलग जिम्मेदारियां हैं और वे अलग-अलग अधिकार क्षेत्र में काम करते हैं।

What is Pay CID? सीआईडी वेतन क्या है?

CID कई अलग-अलग कानून प्रवर्तन एजेंसियों को संदर्भित कर सकता है, और इनमें से किसी एक एजेंसी में काम करने वाले अधिकारी का वेतन उनके रैंक, अनुभव, स्थान और विशिष्ट जिम्मेदारियों जैसे कारकों के आधार पर भिन्न हो सकता है।

CID इकाइयों में काम करने वालों सहित, कानून प्रवर्तन अधिकारी, ऐसे वेतन अर्जित करते हैं जो अन्य व्यवसायों में उन लोगों के साथ प्रतिस्पर्धी होते हैं जिन्हें समान स्तर की शिक्षा और प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है।

सीआईडी (CID Full Form) अधिकारियों के वेतन के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो मेरा सुझाव है कि अधिक जानकारी के लिए सीधे उस एजेंसी से संपर्क करें।

What is The Verification Process? जांच प्रक्रिया क्या है?

जांच प्रक्रिया आपराधिक अपराधों के लिए संदिग्धों की पहचान करने, पकड़ने और उन पर मुकदमा चलाने के लिए कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा उठाए गए कदमों को संदर्भित करती है। जांच प्रक्रिया में शामिल विशिष्ट कदम अपराध की प्रकृति, जांचकर्ताओं के लिए उपलब्ध संसाधनों और अन्य कारकों के आधार पर भिन्न हो सकते हैं।

जांच प्रक्रिया में आमतौर पर निम्नलिखित चरण शामिल होते हैं:-

• Initial Reaction: प्रारंभिक प्रतिक्रिया:
जब किसी अपराध की सूचना दी जाती है, तो कानून प्रवर्तन अधिकारी प्रारंभिक जानकारी एकत्र करने और क्षेत्र को सुरक्षित करने के लिए घटनास्थल पर प्रतिक्रिया देते हैं।

• Evidence Collection: साक्ष्य संग्रह:
प्रारंभिक प्रतिक्रिया के दौरान, अधिकारी ऐसे किसी भी भौतिक साक्ष्य को एकत्र और संरक्षित करेंगे जो जांच के लिए प्रासंगिक हो सकता है। इसमें फ़िंगरप्रिंट, डीएनए नमूने और निगरानी फ़ुटेज जैसी चीज़ें शामिल हो सकती हैं।

• Interview: साक्षात्कार:
अपराध के बारे में अधिक जानकारी एकत्र करने और संभावित सुरागों की पहचान करने के लिए जांचकर्ता गवाहों, पीड़ितों और संदिग्धों के साथ साक्षात्कार आयोजित करेंगे।

• Analysis: विश्लेषण:
जांचकर्ता संभावित संदिग्धों की पहचान करने और उनके खिलाफ मामला बनाने के लिए एकत्र किए गए सबूतों और सूचनाओं का विश्लेषण करेंगे।

• Arrest: गिरफ्तारी:
यदि जांच में यह मानने के संभावित कारण स्थापित हो जाते हैं कि एक संदिग्ध ने अपराध किया है, तो संदिग्ध को गिरफ्तार किया जाएगा और उस पर अपराध का आरोप लगाया जाएगा।

• Prosecution: अभियोजन:
यदि मामला सुनवाई के लिए जाता है, तो अभियोजन पक्ष संदिग्ध के अपराध को एक उचित संदेह से परे साबित करने के प्रयास में अदालत में सबूत और तर्क पेश करेगा।

यह जांच प्रक्रिया की एक सामान्य रूपरेखा है, और इसमें शामिल विशिष्ट चरण मामले की परिस्थितियों के आधार पर भिन्न हो सकते हैं।

What are The 3 Objectives Of a Criminal Investigation? आपराधिक जांच के 3 उद्देश्य क्या हैं?

आपराधिक जांच के मुख्य उद्देश्य हैं:-

• Identification and arrest of suspects: संदिग्धों की पहचान और गिरफ्तारी:

जब कोई अपराध किया जाता है, तो जांच का प्राथमिक लक्ष्य अपराध के लिए जिम्मेदार व्यक्ति या व्यक्तियों की पहचान करना और उन्हें न्याय दिलाना होता है।

• Gather Evidence: सबूत इकट्ठा करें:

एक संदिग्ध पर सफलतापूर्वक मुकदमा चलाने के लिए, पुलिस को ऐसे सबूत इकट्ठा करने और पेश करने चाहिए जो एक उचित संदेह से परे संदिग्ध के अपराध को स्थापित करते हों। इसमें भौतिक साक्ष्य, गवाह गवाही और अन्य प्रकार के साक्ष्य शामिल हो सकते हैं।

• Resolve Cases: मामलों को सुलझाएं:

कई कानून प्रवर्तन एजेंसियों में मामलों को सुलझाने और पीड़ितों और उनके परिवारों को बंद करने की तीव्र इच्छा होती है। अपराधियों की पहचान करके और उन पर मुकदमा चलाकर, जांचकर्ता न्याय की भावना लाने और अपराध से प्रभावित लोगों को बंद करने में मदद कर सकते हैं।

आपराधिक जांच का मुख्य उद्देश्य उन लोगों की पहचान करना और उन पर मुकदमा चलाना है जिन्होंने अपराध किया है और यह सुनिश्चित करना है कि न्याय दिया जाए।

CSS FULL FORM BIS FULL FORM BSC FULL FORM
ATP FULL FORM GT FULL FORM LPG FULL FORM
What Are The 4 Most Common Types Of Criminal Investigation? आपराधिक जांच के 4 सबसे आम प्रकार क्या हैं?

आपराधिक जांच को कई अलग-अलग श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है, और विशिष्ट प्रकार की जांच जो सबसे आम हैं, स्थान और कानून प्रवर्तन एजेंसियों के लिए उपलब्ध संसाधनों के आधार पर भिन्न हो सकती हैं। यहां चार सामान्य प्रकार की आपराधिक जांच हैं:

• Homicide Investigation: मानवहत्या की जांच:

ये किसी व्यक्ति की मौत की जांच है, जिसमें हत्याएं, हत्याएं और अन्य प्रकार की हत्याएं शामिल हो सकती हैं।

• Property Crime Investigation: संपत्ति अपराध जांच:

ये चोरी, चोरी और बर्बरता जैसे अपराधों की जांच हैं।

• Fraud Detection: धोखाधड़ी की जांच:

ये गबन, पहचान की चोरी और अन्य प्रकार की वित्तीय धोखाधड़ी जैसे अपराधों की जांच हैं।

• Drug Offenses: नशीली दवाओं के अपराध:

ये अवैध दवाओं के कब्जे, वितरण और निर्माण की जांच हैं।

ये कई अलग-अलग प्रकार की आपराधिक जांचों के कुछ उदाहरण हैं जो कानून प्रवर्तन एजेंसियां संचालित कर सकती हैं। अन्य सामान्य प्रकार की जांचों में यौन उत्पीड़न, संगठित अपराध और आतंकवाद जैसे अपराधों की जांच शामिल हो सकती है।

What are The 7 Objectives of a Criminal Investigation? एक आपराधिक जांच के 7 उद्देश्य क्या हैं?

कई विशिष्ट उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए आपराधिक जांच की जाती है। यहां आपराधिक जांच के सात सामान्य उद्देश्य हैं:

Identification and Arrest Of Suspects: संदिग्धों की पहचान और गिरफ्तारी:

कई आपराधिक जांचों का प्राथमिक लक्ष्य अपराध के लिए जिम्मेदार व्यक्ति या व्यक्तियों की पहचान करना और उन्हें न्याय दिलाना है।

Gather Evidence: सबूत इकट्ठा करें:

एक संदिग्ध पर सफलतापूर्वक मुकदमा चलाने के लिए, जांचकर्ताओं को ऐसे सबूत इकट्ठा करने और पेश करने चाहिए जो एक उचित संदेह से परे संदिग्ध के अपराध को स्थापित करते हों।

Determine the Motive Of The Crime: अपराध के मकसद का निर्धारण करें:

अपराध के पीछे के मकसद को समझकर, जांचकर्ता अपराध के आसपास की परिस्थितियों को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं और संभावित संदिग्धों की पहचान कर सकते हैं।

Establish Sequence Of Events: घटनाओं का क्रम स्थापित करें:

किसी अपराध के होने से पहले और उसके बाद की घटनाओं के अनुक्रम की जांच करने से जांचकर्ताओं को यह समझने में मदद मिल सकती है कि अपराध कैसे किया गया था और संभावित संदिग्धों की पहचान करें।

Identify An Accomplice: किसी सहअपराधी की पहचान करें:

अपराध करने में कई लोग शामिल हो सकते हैं। किसी भी सहयोगी की पहचान करने से जांचकर्ताओं को संदिग्धों के खिलाफ एक मजबूत मामला बनाने में मदद मिल सकती है।

Recover Stolen Property: चोरी की संपत्ति को पुनर्प्राप्त करें:

संपत्ति के अपराधों से जुड़े मामलों में, जांचकर्ता चोरी की संपत्ति को सही मालिक को वापस करने के लिए पुनर्प्राप्त करने का प्रयास कर सकते हैं।

Solve the Case: मामले को सुलझाएं:

कई कानून प्रवर्तन एजेंसियों में मामलों को सुलझाने और पीड़ितों और उनके परिवारों को बंद करने की तीव्र इच्छा होती है। अपराधियों की पहचान करके और उन पर मुकदमा चलाकर, जांचकर्ता न्याय की भावना लाने और अपराध से प्रभावित लोगों को बंद करने में मदद कर सकते हैं।

What are the Important Principles in Crime Investigation? अपराध की जांच में महत्वपूर्ण सिद्धांत क्या हैं?

अपराध की जांच में कई महत्वपूर्ण सिद्धांत हैं जो अपराध की जांच का मार्गदर्शन करते हैं। इन सिद्धांतों को यह सुनिश्चित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है कि जांच निष्पक्ष, निष्पक्ष और संपूर्ण तरीके से की जाए। अपराध जांच में कुछ सबसे महत्वपूर्ण सिद्धांतों में शामिल हैं:-

• Principle of Validity: वैधता का सिद्धांत:

यह सिद्धांत मानता है कि सभी जांच कानून के अनुसार होनी चाहिए और संदिग्धों या अन्य व्यक्तियों के अधिकारों का उल्लंघन नहीं करना चाहिए।

• Principle of Fairness: निष्पक्षता का सिद्धांत:

इस सिद्धांत की आवश्यकता है कि जाति, धर्म, जातीयता, या संदिग्धों या गवाहों की अन्य व्यक्तिगत विशेषताओं पर ध्यान दिए बिना निष्पक्ष तरीके से जांच की जाए।

• Principle of Fairness: समग्रता का सिद्धांत:

इस सिद्धांत की आवश्यकता है कि जांचकर्ता एक मजबूत और पूर्ण मामला बनाने के लिए सभी प्रासंगिक सबूतों को इकट्ठा करें और उन पर विचार करें।

• Principle of Responsibility: उत्तरदायित्व का सिद्धांत:

इस सिद्धांत की आवश्यकता है कि जांचकर्ताओं को उनके कार्यों के लिए जवाबदेह ठहराया जाए और उनका कार्य निरीक्षण और समीक्षा के अधीन हो।

• Principle of Transparency: पारदर्शिता का सिद्धांत:

इस सिद्धांत की आवश्यकता है कि जांच खुले और पारदर्शी तरीके से की जाए, जिसमें कानून द्वारा अनुमत सीमा तक जानकारी को जनता के साथ साझा किया जाए।

इन सिद्धांतों को यह सुनिश्चित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है कि जाँच निष्पक्ष और न्यायपूर्ण तरीके से की जाए, और न्याय दिया जाए।

Frequently Asked Questions. FAQ ....

CID का फुल फॉर्म क्या होता है ?

CID का फुल फॉर्म Crime investigation Department होता है। CID को हिंदी में अपराध जांच विभाग कहते है।

CID की स्थापना कब और किसके द्वारा हुई थी ?

CID की स्थापना ब्रिटिश सरकार ने वर्ष 1902 की थी?

CID की जांच प्रक्रिया क्या है?

CID की जांच प्रक्रिया आपराधिक अपराधों के लिए संदिग्धों की पहचान करने, पकड़ने और उन पर मुकदमा चलाने के लिए कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा उठाए गए कदमों को संदर्भित करती है। जांच प्रक्रिया में शामिल विशिष्ट कदम अपराध की प्रकृति, जांचकर्ताओं के लिए उपलब्ध संसाधनों और अन्य कारकों के आधार पर भिन्न हो सकते हैं।

जांच अधिकारी की भूमिका क्या है?

सबूत इकट्ठा करना और उसका विश्लेषण करना जांच रणनीतियों का विकास और कार्यान्वयन अन्य एजेंसियों के साथ समन्वय करना रिपोर्ट तैयार करना अदालत में गवाही देना

Leave a Comment