Arunachal Pradesh GK in Hindi: History of Arunachal Pradesh in Hindi: Arunachal Pradesh GK Questions with Answers In Hindi

Arunachal Pradesh GK in Hindi में आपको अरुणाचल प्रदेश के बारे में अरुणाचल प्रदेश सामान्य ज्ञान की जानकारी दी जाएगी। जिससे आपको अपने प्रतियोगिता परीक्षा की तयारी करने में मदद मिलाने वाला है

इस पोस्ट में आपको अरुणाचल प्रदेश का इतिहास क्या है। अरुणाचल प्रदेश के बारे में जानकारी एवं सभी वास्तु से अवगत कराया जायेगा। Arunachal Pradesh GK Questions with Answers In Hindi की भी जानकारी दी जाएगी।

Arunachal Pradesh GK in Hindi: History of Arunachal Pradesh in Hindi: Arunachal Pradesh GK Questions with Answers In Hindi

About Arunachal Pradesh in Hindi:- अरुणाचल प्रदेश के बारे में :- (Arunachal Pradesh GK in Hindi)

अरुणाचल प्रदेश भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र में स्थित एक राज्य है। इसकी सीमा दक्षिण में भारतीय राज्यों असम और नागालैंड, पूर्व में म्यांमार (बर्मा), पश्चिम में भूटान और उत्तर में चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र से लगती है। क्षेत्रफल की दृष्टि से यह पूर्वोत्तर राज्यों में सबसे बड़ा है।

विविध संस्कृति और जातीयता: अरुणाचल प्रदेश अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विविधता के लिए जाना जाता है। जिसमें 26 से अधिक प्रमुख जनजातियाँ और कई उप-जनजातियाँ हैं। जिनमें से प्रत्येक की अपनी विशिष्ट रीति-रिवाज, परंपराएँ और भाषाएँ हैं। प्रमुख जनजातियों में न्यीशी, आदि, अपातानी, गैलो, मोनपा और कई अन्य शामिल हैं।

प्राकृतिक सौंदर्य: राज्य अपनी मनमोहक प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। जिसकी विशेषता हरे-भरे जंगल, बर्फ से ढके पहाड़ और सुरम्य घाटियाँ हैं। यह कई राष्ट्रीय उद्यानों और वन्यजीव अभयारण्यों का घर है, जो इसे जैव विविधता का स्वर्ग बनाता है।

तवांग मठ: अरुणाचल प्रदेश के सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों में से एक तवांग मठ है। जो तवांग जिले में स्थित है। यह भारत का सबसे बड़ा बौद्ध मठ और बौद्धों के लिए एक आवश्यक तीर्थ स्थल है।

ईटानगर: ईटानगर अरुणाचल प्रदेश की राजधानी है। जो पापुम पारे जिले में स्थित है। यह राज्य के प्रशासनिक और राजनीतिक केंद्र के रूप में कार्य करता है।

चीन-भारत सीमा विवाद: यह राज्य भारत और चीन के बीच क्षेत्रीय विवादों का विषय रहा है। सीमा मुद्दा अनसुलझा है और तवांग क्षेत्र दोनों देशों के बीच विवाद का एक प्रमुख बिंदु है।

आर्थिक गतिविधियाँ: अरुणाचल प्रदेश की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि, बागवानी और वानिकी पर निर्भर करती है। राज्य बिजली पैदा करने के लिए अपनी जलविद्युत क्षमता भी तलाश रहा है। अपनी प्राकृतिक सुंदरता और सांस्कृतिक समृद्धि के कारण पर्यटन अर्थव्यवस्था में एक और महत्वपूर्ण योगदानकर्ता है।

कनेक्टिविटी: अरुणाचल प्रदेश को ऐतिहासिक रूप से अपने ऊबड़-खाबड़ इलाके और सुदूरता के कारण कनेक्टिविटी के मामले में चुनौतियों का सामना करना पड़ा है। भारत सरकार सड़क, वायु और डिजिटल कनेक्टिविटी को बेहतर बनाने के लिए बुनियादी ढांचे के विकास में निवेश कर रही है।

DC Full Form Atal Pension Yojana MI Full Form
RCB Full Form Tamil Nadu GK In Hindi LSG Full Form

संरक्षित क्षेत्र: राज्य कई संरक्षित क्षेत्रों का घर है। जिनमें नामदाफा राष्ट्रीय उद्यान, केइबुल लामजाओ राष्ट्रीय उद्यान और पक्के वन्यजीव अभयारण्य शामिल हैं, जो विविध प्रकार की वनस्पतियों और जीवों को आश्रय देते हैं।

त्यौहार: अरुणाचल प्रदेश के लोग विभिन्न त्यौहारों को बड़े उत्साह के साथ मनाते हैं। कुछ लोकप्रिय त्योहारों में लोसार (तिब्बती नव वर्ष), सोलुंग, न्योकुम और जीरो संगीत समारोह शामिल हैं।

हस्तशिल्प: अरुणाचल प्रदेश अपने उत्कृष्ट हस्तशिल्प के लिए जाना जाता है। जो स्थानीय समुदायों के कलात्मक कौशल और शिल्प कौशल को दर्शाता है। हाथ से बुने हुए कपड़े, बांस और बेंत के उत्पाद, लकड़ी की नक्काशी और पारंपरिक आभूषण राज्य में उत्पादित प्रमुख हस्तशिल्प में से कुछ हैं।

भोजन: अरुणाचल प्रदेश का भोजन विविध है और इस क्षेत्र में रहने वाली विभिन्न जनजातियों से प्रभावित है। चावल एक मुख्य भोजन है और व्यंजनों में अक्सर बांस के अंकुर, जंगली जड़ी-बूटियाँ और मांस (सूअर का मांस, चिकन और मछली) शामिल होते हैं। थुकपा (नूडल सूप), मोमो (पकौड़ी), और बांस शूट करी कुछ लोकप्रिय व्यंजन हैं जिनका आनंद स्थानीय लोग और पर्यटक समान रूप से लेते हैं।

प्राचीन इतिहास: अरुणाचल प्रदेश का समृद्ध इतिहास हजारों साल पुराना है। इस क्षेत्र का उल्लेख महाभारत जैसे प्राचीन भारतीय महाकाव्यों में किया गया है और यह विभिन्न प्राचीन व्यापार मार्गों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है।

पूर्वोत्तर भारत का प्रवेश द्वार: अरुणाचल प्रदेश भारत की Act East नीति में एक रणनीतिक भूमिका निभाता है। जो दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के साथ सांस्कृतिक और आर्थिक संबंधों को बढ़ावा देता है। यह भारत और दक्षिण पूर्व एशिया के बीच एक महत्वपूर्ण कड़ी के रूप में कार्य करता है।

जलवायु: अरुणाचल प्रदेश की जलवायु तलहटी में उष्णकटिबंधीय से लेकर ऊंचे क्षेत्रों में उप-अल्पाइन और अल्पाइन तक भिन्न है। गर्मियो पर गर्म और आर्द्र होती हैं। जबकि सर्दियाँ पहाड़ी इलाकों में काफी ठंडी हो सकती हैं।

साहसिक पर्यटन: राज्य साहसिक प्रेमियों के लिए उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है। ट्रैकिंग, पर्वतारोहण, रिवर राफ्टिंग और मछली पकड़ना लोकप्रिय गतिविधियाँ हैं। तवांग, जीरो और बोमडिला साहसिक पर्यटन के लिए पसंदीदा स्थलों में से हैं।

GT Full Form Sukanya Samriddhi Yojana SRH Full Form
ABG Full Form Puducherry GK In Hindi BCE Full Form

स्वदेशी संस्कृतियों का संरक्षण: अरुणाचल प्रदेश की स्वदेशी जनजातियों की अनूठी सांस्कृतिक विरासत और परंपराओं को संरक्षित करने के लिए सरकार और विभिन्न संगठनों द्वारा प्रयास किए जा रहे हैं।

वन्यजीव संरक्षण: अरुणाचल प्रदेश जानवरों की कई लुप्तप्राय और दुर्लभ प्रजातियों का घर है। जिनमें क्लाउडेड तेंदुआ, लाल पांडा और भारतीय विशाल गिलहरी शामिल हैं। इन प्रजातियों और उनके आवासों की सुरक्षा के लिए संरक्षण पहल की जा रही है।

अद्वितीय जैव विविधता: राज्य की भौगोलिक स्थिति और विविध जलवायु परिस्थितियाँ इसकी असाधारण जैव विविधता में योगदान करती हैं, जिससे यह पारिस्थितिक अनुसंधान और संरक्षण का केंद्र बन जाता है।

उत्सव की भावना: राज्य कृषि चक्रों, धार्मिक मान्यताओं और स्थानीय रीति-रिवाजों का जश्न मनाने वाले पूरे वर्ष कई त्योहारों से जीवंत रहता है। ये त्यौहार आगंतुकों को अरुणाचल प्रदेश की जीवंत सांस्कृतिक टेपेस्ट्री की एक झलक प्रदान करते हैं।

गर्मजोशी भरा आतिथ्य: अरुणाचल प्रदेश के लोग अपने गर्मजोशी भरे और स्वागत करने वाले स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। आगंतुक अक्सर स्थानीय लोगों द्वारा दिए गए आतिथ्य और मित्रता की सराहना करते हैं।

अरुणाचल प्रदेश की सुंदरता, संस्कृति और जैव विविधता इसे भारत के कम-ज्ञात कोनों की खोज करने वाले यात्रियों के लिए एक आकर्षक गंतव्य बनाती है। किसी भी गतिशील क्षेत्र की तरह, अरुणाचल प्रदेश लगातार विकसित हो रहा है, विकास और सांस्कृतिक आदान-प्रदान के नए अवसर प्रदान कर रहा है।

शिक्षा और साक्षरता: अरुणाचल प्रदेश ने राज्य भर में फैले विभिन्न स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के साथ शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण प्रगति की है। साक्षरता दर बढ़ाने और लोगों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के प्रयास किए गए हैं।

हथकरघा और हस्तशिल्प प्रदर्शनी: राज्य अक्सर क्षेत्र की पारंपरिक कला और शिल्प को प्रदर्शित करने के लिए हथकरघा और हस्तशिल्प प्रदर्शनियों का आयोजन करता है। ये आयोजन न केवल स्थानीय कारीगरों को बढ़ावा देते हैं बल्कि उन्हें व्यापक बाजार तक पहुंचने के लिए एक मंच भी प्रदान करते हैं।

संगीत और नृत्य: अरुणाचल प्रदेश में एक समृद्ध संगीत विरासत है। जिसमें विभिन्न आदिवासी समुदायों के पास अपने अद्वितीय पारंपरिक संगीत और नृत्य रूप हैं। ये प्रदर्शन अपनी सांस्कृतिक पहचान को संरक्षित करते हुए त्योहारों और समारोहों का एक अभिन्न अंग हैं।

पारंपरिक खेल: अरुणाचल प्रदेश के लोग तीरंदाजी, कुश्ती और विभिन्न स्वदेशी मार्शल आर्ट जैसे पारंपरिक खेलों में संलग्न हैं, जो पीढ़ियों से चले आ रहे हैं।

औषधीय पौधे: राज्य में विभिन्न औषधीय पौधे और जड़ी-बूटियाँ प्रचुर मात्रा में हैं जिनका उपयोग पारंपरिक रूप से स्थानीय समुदायों द्वारा उपचार के लिए किया जाता है। इस पारंपरिक ज्ञान ने आधुनिक स्वास्थ्य देखभाल में अपनी क्षमता के कारण ध्यान आकर्षित किया है।

अद्वितीय वास्तुकला: अरुणाचल प्रदेश की विभिन्न जनजातियों में पारंपरिक वास्तुकला की विशिष्ट शैलियाँ हैं। घर अक्सर बांस और लकड़ी जैसी स्थानीय सामग्रियों का उपयोग करके बनाए जाते हैं, जो उनकी टिकाऊ और पर्यावरण-अनुकूल निर्माण विधियों का प्रदर्शन करते हैं।

सामरिक महत्व: चीन और म्यांमार के साथ अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं के निकट होने के कारण, अरुणाचल प्रदेश भारत की सुरक्षा और रक्षा हितों के लिए रणनीतिक महत्व रखता है।

पुरातात्विक स्थल: राज्य में मालिनीथान जैसे पुरातत्व स्थल भी हैं, जिनका ऐतिहासिक और पौराणिक महत्व है और यह इतिहासकारों और पुरातत्वविदों को आकर्षित करता है।

समुदाय-आधारित पर्यटन: अरुणाचल प्रदेश के कुछ क्षेत्रों ने समुदाय-आधारित पर्यटन पहल को अपनाया है, जहां स्थानीय समुदाय अपनी सांस्कृतिक और पर्यावरणीय विरासत को संरक्षित करते हुए पर्यटन गतिविधियों में सक्रिय रूप से भाग लेते हैं और लाभ उठाते हैं।

चुनौतियाँ और अवसर: अरुणाचल प्रदेश को बुनियादी ढांचे के विकास, कनेक्टिविटी और सतत आर्थिक विकास जैसी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। अपने समृद्ध प्राकृतिक संसाधनों और सांस्कृतिक विरासत के साथ, जिम्मेदार और सतत विकास के लिए पर्याप्त अवसर हैं।

अरुणाचल प्रदेश की सांस्कृतिक विविधता, मनमोहक परिदृश्य और पारंपरिक प्रथाओं का अनूठा मिश्रण इसे भारत के उत्तरपूर्वी हिस्से में एक छिपा हुआ रत्न बनाता है। राज्य यात्रियों, शोधकर्ताओं और इस अविश्वसनीय देश के कम ज्ञात पहलुओं की खोज में रुचि रखने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए आकर्षण का स्रोत बना हुआ है।

CAG Full Form PM Kishan Yojana FCCB Full Form
ZEV Full Form Manipur GK In Hindi AICTE Full Form

History of Arunachal Pradesh in Hindi:- अरुणाचल प्रदेश का इतिहास:

भारत के उत्तरपूर्वी भाग में स्थित राज्य अरुणाचल प्रदेश का इतिहास समृद्ध और विविध है, जो इस क्षेत्र की सांस्कृतिक, जातीय और ऐतिहासिक जटिलताओं को दर्शाता है। राज्य का इतिहास भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र के बड़े इतिहास से जुड़ा हुआ है। यहां अरुणाचल प्रदेश के इतिहास का संक्षिप्त विवरण दिया गया है:-

Ancient and Medieval Period: प्राचीन और मध्यकालीन काल:

अरुणाचल प्रदेश का प्रारंभिक इतिहास विभिन्न स्वदेशी जनजातियों और समुदायों की उपस्थिति से चिह्नित है, जिनमें से कुछ हजारों वर्षों से इस क्षेत्र में निवास कर रहे हैं। ये जनजातियाँ अलग-अलग संस्कृतियाँ, भाषाएँ और रीति-रिवाज अपनाती थीं, जिससे एक विविध और जीवंत सांस्कृतिक परिदृश्य तैयार हुआ।

इस क्षेत्र का इतिहास तिब्बत और दक्षिण पूर्व एशिया से इसकी निकटता से भी प्रभावित है। अरुणाचल प्रदेश तिब्बत के साथ सांस्कृतिक और धार्मिक संबंध साझा करता है और यह प्रभाव राज्य की संस्कृति और परंपराओं के विभिन्न पहलुओं में स्पष्ट है।

Colonial era: औपनिवेशिक युग:

औपनिवेशिक काल के दौरान, ब्रिटिश भारत का प्रभाव धीरे-धीरे पूर्वोत्तर क्षेत्र तक पहुँच गया। अंग्रेजों ने वर्तमान अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों, विशेषकर दक्षिणी क्षेत्रों पर प्रशासनिक नियंत्रण स्थापित किया, जो ब्रिटिश औपनिवेशिक अधिकारियों के अधिकार क्षेत्र में आते थे।

Post-Independence Era: स्वतंत्रता के बाद का युग:

1947 में भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद, अरुणाचल प्रदेश सहित पूर्वोत्तर क्षेत्र नवगठित भारत सरकार के ध्यान का केंद्र बन गया। तिब्बत और चीन की सीमा से लगे इस क्षेत्र की रणनीतिक स्थिति ने इसके इतिहास में भू-राजनीतिक महत्व जोड़ दिया।

अरुणाचल प्रदेश को शुरू में North East Frontier Agency (NEFA) के रूप में जाना जाता था और इसका प्रशासन विदेश मंत्रालय के माध्यम से केंद्र सरकार द्वारा किया जाता था। समय के साथ, इस क्षेत्र को भारतीय संघ में एकीकृत करने के प्रयास किए गए, और बुनियादी ढांचे, शिक्षा और शासन में सुधार के लिए कदम उठाए गए।

Border Conflict: सीमा संघर्ष:

अरुणाचल प्रदेश का इतिहास चीन के साथ सीमा विवादों से भी जुड़ा है। सीमा मुद्दे, विशेष रूप से मैकमोहन रेखा के संबंध में जो भारत और तिब्बत के बीच सीमा को परिभाषित करती है, ने भारत और चीन के बीच तनाव पैदा कर दिया है। 1962 के भारत-चीन युद्ध का इस क्षेत्र पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा और इसने अरुणाचल प्रदेश के रणनीतिक महत्व को और उजागर किया।

Status and Development of the State: राज्य का दर्जा और विकास:

1972 में अरुणाचल प्रदेश एक केंद्र शासित प्रदेश बन गया और बाद में 1987 में इसे भारतीय संघ के भीतर पूर्ण राज्य का दर्जा दिया गया। तब से राज्य ने बुनियादी ढांचे, शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और आर्थिक विकास के मामले में महत्वपूर्ण विकास देखा है।

Cultural Diversity and Heritage: सांस्कृतिक विविधता और विरासत:

अरुणाचल प्रदेश अनेक जातीय समूहों का घर है, जिनमें से प्रत्येक की अपनी विशिष्ट संस्कृति, भाषा और परंपराएँ हैं। राज्य त्योहारों, नृत्य, संगीत और कला रूपों के माध्यम से अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का जश्न मनाता है। पारंपरिक प्रथाएं यहां के लोगों के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती रहती हैं।

Modern Developments and Challenges: आधुनिक विकास और चुनौतियाँ:

अरुणाचल प्रदेश ने विभिन्न क्षेत्रों में महत्वपूर्ण विकास का अनुभव किया है। राज्य की अर्थव्यवस्था में कृषि, बागवानी, पर्यटन और लघु उद्योगों में वृद्धि देखी गई है।

सड़कों, पुलों और अन्य बुनियादी ढांचे का निर्माण करके कनेक्टिविटी में सुधार करने के प्रयास किए गए हैं, जिससे दूरदराज के क्षेत्रों को देश के बाकी हिस्सों के साथ एकीकृत करने में मदद मिली है।

राज्य को कुछ चुनौतियों का भी सामना करना पड़ता है। भौगोलिक अलगाव, कठिन भूभाग और बदलती जलवायु परिस्थितियाँ विकास पहल में बाधाएँ पैदा कर सकती हैं। क्षेत्र की नाजुक पारिस्थितिकी और सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करते हुए सतत विकास सुनिश्चित करना एक नाजुक संतुलन कार्य है।

Cultural Conservation and Identity: सांस्कृतिक संरक्षण और पहचान:

अरुणाचल प्रदेश को अपनी विविध सांस्कृतिक पच्चीकारी पर गर्व है। राज्य के विभिन्न जातीय समूह अपनी विशिष्ट परंपराओं, भाषाओं और रीति-रिवाजों को बनाए रखते हैं। सांस्कृतिक उत्सवों, शिक्षा कार्यक्रमों और सामुदायिक पहलों के माध्यम से इन विशिष्ट पहचानों को बढ़ावा देने और संरक्षित करने के प्रयास किए गए हैं।

Education and Healthcare: शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा:

अरुणाचल प्रदेश के लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्रों में निवेश किया गया है। दूरदराज के इलाकों में भी स्कूल और स्वास्थ्य सुविधाएं स्थापित की गई हैं, जो शिक्षा और चिकित्सा सेवाओं तक पहुंच प्रदान करती हैं।

Tourism and Ecotourism: पर्यटन और पारिस्थितिक पर्यटन:

अरुणाचल प्रदेश के लुभावने परिदृश्य, समृद्ध जैव विविधता और जीवंत संस्कृतियों ने पर्यटकों और शोधकर्ताओं को समान रूप से आकर्षित किया है। पर्यावरण को संरक्षित करते हुए स्थानीय समुदायों के लिए आय उत्पन्न करने के एक स्थायी साधन के रूप में इकोटूरिज्म को बढ़ावा दिया गया है।

पर्यटक राज्य के राष्ट्रीय उद्यानों, वन्यजीव अभयारण्यों और सांस्कृतिक स्थलों को देखने के लिए आते हैं।

Strategic Importance: सामरिक महत्व:

राज्य की अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं से निकटता ने इसे रणनीतिक महत्व दिया है। चीन और म्यांमार के साथ इसकी सीमाएं भारत की रक्षा और कूटनीति पर प्रभाव डालती हैं। भारत सरकार सुरक्षा और कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए सीमावर्ती क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए निवेश जारी रखे हुए है।

Political Representation: राजनीतिक प्रतिनिधित्व:

अरुणाचल प्रदेश का प्रतिनिधित्व भारतीय संसद में उसके निर्वाचित संसद सदस्यों (सांसदों) और राज्य विधान सभा में किया जाता है। लोकतांत्रिक प्रक्रिया राज्य के लोगों को अपनी चिंताओं को व्यक्त करने, शासन में भाग लेने और उनके जीवन को प्रभावित करने वाली नीतियों को आकार देने की अनुमति देती है।

जैसे-जैसे अरुणाचल प्रदेश का विकास जारी है, इसका इतिहास इसके लोगों के लचीलेपन और अपनी अनूठी सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करते हुए बदलते समय के साथ अनुकूलन करने की उनकी क्षमता का प्रमाण बना हुआ है। राज्य की यात्रा चुनौतियों और अवसरों दोनों से चिह्नित है, और भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र में इसकी भूमिका निस्संदेह आने वाले वर्षों में विकसित होती रहेगी।

अरुणाचल प्रदेश का इतिहास एक आकर्षक टेपेस्ट्री है जो प्राचीन परंपराओं, औपनिवेशिक प्रभावों, आधुनिक विकास और रणनीतिक महत्व को एक साथ जोड़ता है। राज्य का गतिशील अतीत और वर्तमान भारत के विविध सांस्कृतिक और भौगोलिक परिदृश्य के एक जीवंत और अभिन्न अंग के रूप में इसकी पहचान में योगदान देता है।

Conclusion:
अरुणाचल प्रदेश का इतिहास सांस्कृतिक विविधता, भौगोलिक महत्व और ऐतिहासिक जटिलताओं की कहानी है। प्राचीन जनजातीय समाज से आधुनिक भारत का अभिन्न अंग बनने तक राज्य की यात्रा इसके लचीलेपन और विकास को दर्शाती है। जैसे-जैसे क्षेत्र का विकास जारी है, यह भारत के पूर्वोत्तर परिदृश्य का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना हुआ है, जो देश के सांस्कृतिक, सामाजिक और रणनीतिक ढांचे में योगदान देता है।

ये अरुणाचल प्रदेश के बारे में कुछ सामान्य ज्ञान (Arunachal Pradesh GK Questions with Answers In Hindi) तथ्य हैं। राज्य का एक समृद्ध इतिहास और संस्कृति है, और भारत के इस आकर्षक हिस्से के बारे में जानने के लिए बहुत कुछ है।

अरुणाचल प्रदेश सामान्य ज्ञान:- Arunachal Pradesh GK Questions with Answers In Hindi

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश की राजधानी क्या है?

उत्तर: अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर है।

प्रश्न: कौन सी नदी अरुणाचल प्रदेश के तवांग क्षेत्र से होकर बहती है?

उत्तर: तवांग नदी ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा राष्ट्रीय उद्यान लुप्तप्राय लाल पांडा की आबादी के लिए जाना जाता है?

उत्तर: नामदाफा राष्ट्रीय उद्यान।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा प्रमुख त्योहार फसल के मौसम का जश्न मनाता है और अपातानी जनजाति द्वारा व्यापक रूप से मनाया जाता है?

उत्तर: मायोको महोत्सव ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा जिला प्रसिद्ध तवांग मठ का घर है?

उत्तर: तवांग जिला प्रसिद्ध तवांग मठ का घर है। जो भारत के सबसे बड़े मठों में से एक है।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश में पारंपरिक बांस और बेंत के पुल को क्या कहा जाता है?

उत्तर: हैंगिंग ब्रिज या झूला ब्रिज के नाम से जाना जाता है।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा आदिवासी समूह नाक प्लग और चेहरे पर टैटू बनवाने की अनूठी प्रथा के लिए जाना जाता है?

उत्तर: अरुणाचल प्रदेश की अपातानी जनजाति नाक प्लग और चेहरे पर टैटू बनवाने की अनूठी प्रथा के लिए जानी जाती है।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का उच्चतम बिंदु और भारत में हिमालय का सबसे पूर्वी बिंदु कौन सा है?

उत्तर: सबसे ऊँचा बिंदु कांग्टो है और यह भारत में हिमालय का सबसे पूर्वी बिंदु भी है।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा शहर अपने गर्म पानी के झरनों के लिए प्रसिद्ध है और एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है?

उत्तर: दिरांग अपने गर्म पानी के झरनों के लिए प्रसिद्ध है।

प्रश्न: आदि जनजाति का कौन सा त्योहार अरुणाचल प्रदेश में कृषि मौसम की शुरुआत का प्रतीक है?

उत्तर: आदि जनजाति का “सोलुंग” त्यौहार।

प्रश्नः किस प्रसिद्ध तिब्बती बौद्ध भिक्षु का संबंध अरुणाचल प्रदेश के तवांग मठ से है?

उत्तर: तवांग मठ छठे दलाई लामा, त्सांगयांग ग्यात्सो से निकटता से जुड़ा हुआ है।

प्रश्न: आदि जनजाति का पारंपरिक नृत्य कौन सा है जो अक्सर त्योहारों और समारोहों के दौरान किया जाता है?

उत्तर: “पोनुंग” नृत्य।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश में कौन सा वन्यजीव अभयारण्य अपनी विविध पक्षी आबादी के लिए जाना जाता है और एक निर्दिष्ट महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र (आईबीए) है?

उत्तर: ईगलनेस्ट वन्यजीव ।

प्रश्न: कौन सी प्रमुख नदी अरुणाचल प्रदेश की पश्चिमी सीमा पर बहती है जो भूटान के साथ प्राकृतिक सीमा बनाती है?

उत्तर: संकोश नदी ।

प्रश्न: मोनपा जनजाति की पारंपरिक पोशाक क्या है, जिसमें अक्सर जैकेट, पतलून और एक विशिष्ट टोपी शामिल होती है?

उत्तर: थगका पोशाक जिसमे जैकेट, पतलून और एक विशिष्ट टोपी शामिल है।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश में कौन सा प्राचीन किला ब्रह्मपुत्र नदी का मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है और अहोम राजवंश से संबंधित है?

उत्तर: ईटानगर में ईटा किला है।

प्रश्न: वांचो जनजाति के किस त्योहार में विस्तृत बांस टावरों का निर्माण शामिल है और इसे एकता के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है?

उत्तर: वांचो जनजाति के ला-ओंग त्योहार में विस्तृत बांस टावरों का निर्माण शामिल है

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश के किस स्वदेशी शिल्प में रंगीन पैटर्न और डिज़ाइन की जटिल बुनाई शामिल है। जिसका उपयोग अक्सर कपड़ों और सहायक उपकरण में किया जाता है?

उत्तर: बेंत और बांस की बुनाई अरुणाचल प्रदेश का एक स्वदेशी शिल्प है।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश में कौन सा पर्वतीय दर्रा तवांग शहर के प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है और बर्फ से ढकी चोटियों का आश्चर्यजनक दृश्य प्रस्तुत करता है?

उत्तर: सेला दर्रा तवांग शहर के प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है।

प्रश्न: मोनपा जनजाति का कौन सा पारंपरिक त्योहार मुखौटा नृत्य, रंगीन वेशभूषा और अनुष्ठानों के साथ मनाया जाता है?

उत्तर: लोसर त्यौहार।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा जिला जेमीथांग घाटी का घर है जिसे अक्सर “पक्षियों का स्वर्ग” कहा जाता है?

उत्तर: तवांग जिला ।

प्रश्न: कौन सी नदी जिसे अरुणाचल प्रदेश की जीवन रेखा के रूप में जाना जाता है राज्य के मध्य से होकर बहती है और विविध पारिस्थितिक तंत्र का समर्थन करती है?

उत्तर: ब्रह्मपुत्र नदी।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा जनजातीय समूह उत्तम हाथ से बुने हुए वस्त्रों के उत्पादन में अपने कौशल के लिए जाना जाता है?

उत्तर: मिशिंग जनजाति ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश में कौन सा प्राचीन मंदिर परिसर भगवान शिव को समर्पित है और अपने वास्तुशिल्प महत्व के लिए जाना जाता है?

उत्तर: पश्चिम सियांग जिले में मालिनीथान मंदिर है।

प्रश्न: आदि जनजाति के किस प्रसिद्ध त्योहार में सियांग नदी पर पारंपरिक नौका दौड़ शामिल होती है और उनकी सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन होता है?

उत्तर: आदि जनजाति के “अली-ऐ-लिगांग” त्योहार ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा आदिवासी समुदाय “यक्षगान” के नाम से प्रसिद्ध लकड़ी की सुंदर नक्काशी बनाने की अनूठी कला का अभ्यास करता है?

उत्तर: आदि पदम जनजाति लकड़ी की नक्काशी बनाने की अनूठी कला का अभ्यास करती है जिसे “यक्षगान” के नाम से जाना जाता है।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश में कौन सा वन्यजीव अभयारण्य लुप्तप्राय सफेद पंखों वाली बत्तख और ऑर्किड की कई प्रजातियों का घर है?

उत्तर: पक्के वन्यजीव अभयारण्य लुप्तप्राय सफेद पंखों वाली बत्तख और विभिन्न प्रकार के ऑर्किड का घर है।

प्रश्न: कौन सा प्राचीन व्यापार मार्ग अरुणाचल प्रदेश से होकर गुजरता था जो भारत को तिब्बत और दक्षिण पूर्व एशिया के अन्य हिस्सों से जोड़ता था?

उत्तर: ऐतिहासिक स्टिलवेल रोड अरुणाचल प्रदेश से होकर गुजरती थी।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश के किस पारंपरिक खेल में तीरंदाजी प्रतियोगिताएं शामिल हैं और यह सांस्कृतिक त्योहारों का एक अभिन्न अंग है?

उत्तर: तीरंदाजी अरुणाचल प्रदेश का एक पारंपरिक खेल है।

प्रश्न: न्यीशी जनजाति का कौन सा त्योहार कृषि मौसम की शुरुआत का प्रतीक है और इसमें देवता डोनयी-पोलो को प्रसन्न करने के अनुष्ठान शामिल हैं?
उत्तर: न्यीशी जनजाति का “न्योकुम युलो” त्योहार कृषि मौसम की शुरुआत का प्रतीक है और इसमें डोनयी-पोलो, सूर्य

और चंद्रमा देवता को समर्पित अनुष्ठान शामिल हैं।

प्रश्नः अरुणाचल प्रदेश का कौन सा जिला अपनी सुरम्य मेचुका घाटी और ऐतिहासिक सैमटेन योंगचा मठ के लिए जाना जाता है?

उत्तर: पश्चिम सियांग जिला ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश में पारंपरिक बांस के घर को क्या कहा जाता है, जिसे अक्सर बाढ़ से बचाने के लिए खंभों पर खड़ा किया जाता है?

उत्तर: अरुणाचल प्रदेश में पारंपरिक बांस के घर को स्टिल्ट हाउस कहा जाता है।

प्रश्न: गैलो जनजाति का कौन सा त्योहार अपने पूर्वजों के सम्मान में पारंपरिक नृत्य, गायन और अनुष्ठानों के साथ मनाया जाता है?

उत्तर: मोपिन त्यौहार ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश में कौन सा प्रसिद्ध दर्रा भारत, चीन और म्यांमार के त्रि-जंक्शन पर स्थित है?

उत्तर: पंगसौ दर्रा।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा शहर अपने गर्म झरनों के लिए जाना जाता है और विश्राम और उपचार के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है?

उत्तर: खरसांग शहर।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा आदिवासी समूह अपने घरों के बाहर लकड़ी के मुखौटे लटकाने की अनोखी प्रथा के लिए जाना जाता है?

उत्तर: मिशमी जनजाति सुरक्षा के लिए अपने घरों के बाहर लकड़ी के मुखौटे लटकाने की प्रथा के लिए जानी जाती है।

प्रश्न: कौन सी नदी तिब्बती पठार से निकलती है और अरुणाचल प्रदेश से होकर बहती है अंततः ब्रह्मपुत्र नदी में मिल जाती है?

उत्तर: सियांग नदी तिब्बती पठार से निकलती है। अरुणाचल प्रदेश से होकर बहती है और ब्रह्मपुत्र में विलीन हो जाती है।

प्रश्न: आदि जनजाति का कौन सा पारंपरिक संगीत वाद्ययंत्र बांस से बना है और उनके सांस्कृतिक उत्सवों के दौरान बजाया जाता है?

उत्तर: “बिन्यात” एक पारंपरिक बांस संगीत वाद्ययंत्र है।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा जिला नामदाफा राष्ट्रीय उद्यान का घर है जो अपनी समृद्ध जैव विविधता और प्राचीन परिदृश्य के लिए जाना जाता है?

उत्तर: चांगलांग जिला ।

प्रश्न: मोनपा जनजाति का कौन सा प्रसिद्ध त्योहार भव्य जुलूसों, रंग-बिरंगे मुखौटों और पारंपरिक नृत्यों के साथ मनाया जाता है?

उत्तर: मोनपा जनजाति का तोर्ग्या त्यौहार।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा शहर अपने आर्किड अभयारण्य के लिए जाना जाता है और इसे अक्सर “आर्किड स्वर्ग” के रूप में जाना जाता है?

उत्तर: टीपी शहर ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा जिला एक महत्वपूर्ण बौद्ध मंदिर और मठ “गोल्डन पैगोडा” का घर है?

उत्तर: नामसाई जिला “गोल्डन पैगोडा” का घर है।

प्रश्न: इदु मिश्मी जनजाति का कौन सा प्रसिद्ध मेला पारंपरिक नृत्यों और हस्तशिल्प सहित उनकी सांस्कृतिक विरासत को प्रदर्शित करता है?

उत्तर: इदु मिशमी जनजाति का “रेह” त्योहार का मेला ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश की कौन सी नदी अपने सफेद पानी में राफ्टिंग के अवसरों और आश्चर्यजनक रैपिड्स के लिए प्रसिद्ध है?

उत्तर: कामेंग नदी ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा स्वदेशी त्योहार बुआई के मौसम के अंत का प्रतीक है और बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है?

उत्तर: “चलो लोकु” त्यौहार ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा जिला अपनी जीवंत जनजातीय संस्कृतियों के लिए जाना जाता है और इसे अक्सर “भोर-प्रकाश पर्वतों की भूमि” के रूप में जाना जाता है?

उत्तर: दिबांग घाटी जिला ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा पारंपरिक व्यंजन बांस की टहनियों से बनाया जाता है और इसे एक स्वादिष्ट व्यंजन माना जाता है?

उत्तर: “बैम्बू शूट करी” अरुणाचल प्रदेश का एक पारंपरिक व्यंजन है ।

प्रश्न: कौन सी पर्वत श्रृंखला अरुणाचल प्रदेश की उत्तरी सीमा के साथ चलती है और इसे तिब्बत से अलग करती है?

उत्तर: हिमालय ।

प्रश्न: अरुणाचल प्रदेश का कौन सा जिला अपने अनूठे “लुक्टर” त्योहार के लिए जाना जाता है, जो अनुष्ठानिक नृत्यों और प्रसाद के साथ मनाया जाता है?

उत्तर: “लुक्टर” त्यौहार पश्चिम कामेंग जिला।

Frequently Asked Questions.

Where is Arunachal Pradesh located?

Arunachal Pradesh is situated in the northeastern region of India, sharing borders with China, Bhutan, and Myanmar.

What is the capital of Arunachal Pradesh?

The capital of Arunachal Pradesh is Itanagar.

How did Arunachal Pradesh get its name?

The name "Arunachal Pradesh" means "land of the dawn-lit mountains" in Sanskrit. It is named after the Arunachal Range, which is a part of the Himalayas.

What is the official language of Arunachal Pradesh?

The official languages of Arunachal Pradesh are English and Hindi.

Which tribes are predominant in Arunachal Pradesh?

Arunachal Pradesh is home to a diverse range of tribes, including the Nyishi, Adi, Apatani, Galo, Monpa, and many others. Each tribe has its own distinct culture, traditions, and languages.

What is the major religion in Arunachal Pradesh?

The predominant religions in Arunachal Pradesh are Donyi-Polo and Animism. However, there is also a significant presence of Buddhism, Christianity, and Hinduism.

What are the main tourist attractions in Arunachal Pradesh?

Some popular tourist destinations in Arunachal Pradesh include Tawang Monastery, Ziro Valley, Namdapha National Park, Sela Pass, Bomdila Monastery, and the scenic Mechuka Valley.

How is the climate in Arunachal Pradesh?

Arunachal Pradesh experiences a varied climate due to its diverse topography. The lower elevations have a subtropical climate, while higher regions have an alpine climate. The state receives heavy rainfall during the monsoon season.

Are permits required to visit Arunachal Pradesh?

Indian citizens from other states require an Inner Line Permit (ILP) to enter Arunachal Pradesh. Foreign tourists need a Protected Area Permit (PAP), which is obtainable from Indian missions abroad or state government offices.

What is the significance of Tawang Monastery in Arunachal Pradesh?

Tawang Monastery is the largest monastery in India and holds great religious and cultural significance, especially for followers of Tibetan Buddhism. It is a major pilgrimage site and a popular tourist attraction.

Leave a Comment