What is SDM Full Form Hindi | SDM क्या होता है?

In this post, you will be given complete information about SDM Full Form, in which you will be told what is the full form of SDM. What is SDM full form in Hindi. what is sdm salary

Table of Contents

SDM Ka Full Form क्या होता है ?

 

 SDM Full Form

Sub Divisional  Magistrate

 

दोस्तों SDM का नाम तो हम सभी लोगो ने खूब सुना है। और मालूम भी है की SDM का Full Form – Sub Divisional  Magistrate होता है। SDM को हिंदी में हम उप प्रभागीय न्यायाधीश कहते है। इस पोस्ट में मै आपको SDM के बारे में पूरी जानकारी दूंगा। 

What is SDM Full Form Hindi | SDM क्या होता है?

NRC Full Form

What is SDM Full Form: एसडीएम का फुल फॉर्म क्या है ?

SDM यानि Sub Divisional  Magistrate जिसे हम उप प्रभागीय न्यायाधीश भी कहते है, SDM एक सरकार का बहुत ही प्रतिष्ठित एवं Power Full अधिकारी का पोस्ट होता है। राज्य सरकार में प्रशासनिक सेवा में SDM का पद बड़ा होता है। राज्य के जिले के उपखण्ड SDM के नियंत्रण में रहता है। सभी उपखण्ड के अन्दर जो भी तहसील होता है। उस तहसील के तहसीलदारों का सीधा नियंत्रण SDM के पास रहता है।

SDM Full Form Sub Divisional  Magistrate  

 FMCG Full Form in Hindi

 SSLC Full Form in Hindi

Work of SDM: एसडीएम का कार्य:-

 SDM अपने क्षेत्र में भूमि कार्यों के अलावा राजस्व, वाहनों का पंजीकरण, चुनाव के कार्य, वाहन सम्बंधित कार्य, इत्यादि जैसे प्रमाण पत्र बनाने एवं बनवाने सम्बंधित देखरेख करता है। भूमि से सम्बंधित सभी विभाग SDM के पास रहता है। SDM को आपराधिक प्रक्रिया के मामले के आलावा विभिन्न तरह के न्यायिक कार्य भी करना पड़ता है। 

 IBM Full Form in Hindi

 

How to Become SDM: एसडीएम कैसे बनें ?

 SDM दो तरह से बनते है। 

(1.) UPSC Exam :-  UPSC की Exam पास करने के बाद आप IAS Officer बनते है। लेकिन IAS Officer बनाने के पहले आपको SDM के पद पर चयन मिलता है। उसके कुछ सालों बाद आपको IAS Officer यानि की DM की Post पर नियुक्ति मिलती है। 

(2.) PCS Exam:- State PSC की Exam पास कर भी आप SDM यानि उप प्रभागीय न्यायाधीश बन सकते है। इसके लिए आपको PSC की परीक्षा को Top Rank से पास करना होगा। तो आप सीधे SDM बन सकते है। 

 

 DBT Full Form in Hindi

 NEET Full Form in Hindi 

 PHD Full Form in Hindi 

 RTPS Bihar Full Form in Hindi

 

SDM का कार्य क्या होता है ?

SDM का कार्य अपने क्षेत्र में भूमि कार्यों से सम्बंधित राजस्व, वाहनों का पंजीकरण, चुनाव के कार्य, वाहन इत्यादि जैसे प्रमाण पत्र बनवाने सम्बंधित कार्य की देखरेख करता है।

Who is The Sub Divisional Magistrate (SDM full form)? भारत में उप मंडल मजिस्ट्रेट कौन है?

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) एक सब-डिवीजन का प्रभारी वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है।

SDM कानून और व्यवस्था बनाए रखने, राजस्व एकत्र करने और उप-विभागीय स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है।

एसडीएम विभिन्न प्रमाण पत्र और लाइसेंस जारी करने के लिए भी जिम्मेदार है, जैसे जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र, और विवादों को हल करने और स्थानीय आबादी की शिकायतों को दूर करने के लिए। कुछ राज्यों में, SDM जिला निर्वाचन अधिकारी भी होता है और उप-मंडल में चुनाव कराने के लिए जिम्मेदार होता है।

Is The Sub-Divisional Officer and SDM the same? क्या अनुविभागीय अधिकारी और एसडीएम एक ही हैं?

कुछ राज्यों में, Sub-Divisional Officer (SDO) और Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) एक ही अधिकारी हैं। एसडीओ/एसडीएम एक सब-डिवीजन के प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है।

SDO/SDM उप-विभागीय स्तर पर कानून और व्यवस्था बनाए रखने, राजस्व एकत्र करने और सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए जिम्मेदार हैं। SDO/SDM जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र जैसे विभिन्न प्रमाण पत्र और लाइसेंस जारी करने और विवादों को हल करने और स्थानीय आबादी की शिकायतों को दूर करने के लिए भी जिम्मेदार हैं।

एसडीओ/एसडीएम जिला चुनाव अधिकारी भी होते हैं कुछ राज्यों में, और उप-मंडल में चुनाव कराने के लिए जिम्मेदार होते हैं। अन्य राज्यों में, एसडीओ और एसडीएम अलग-अलग अधिकारी होते हैं, एसडीओ विकास संबंधी कार्यों के लिए जिम्मेदार होता है और एसडीएम कानून और व्यवस्था और राजस्व संग्रह के लिए जिम्मेदार होता है।

Is SDM an IAS officer? क्या एसडीएम एक आईएएस अधिकारी है?

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक सब-डिवीजन का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है। SDM एक भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) अधिकारी होता है, कुछ राज्यों में, जबकि अन्य राज्यों में SDM एक राज्य सिविल सेवा अधिकारी होता है।

भारत में IAS एक प्रतिष्ठित और अत्यधिक प्रतिस्पर्धी सिविल सेवा है, और आईएएस अधिकारी जिला स्तर और ऊपर सरकार के प्रशासन के लिए जिम्मेदार हैं। IAS अधिकारियों का चयन सिविल सेवा परीक्षा नामक एक प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से किया जाता है, जो संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाती है।

अपने प्रशिक्षण को पूरा करने के बाद, IAS अधिकारियों को SDM सहित राज्य और केंद्र सरकारों में विभिन्न पदों पर नियुक्त किया जाता है।

Is SDM Above DM? क्या एसडीएम डीएम से ऊपर है?

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) और District Magistrate (DM) के बीच संबंध उस राज्य पर निर्भर करता है जिसमें वे सेवा कर रहे हैं। कुछ राज्यों में, SDM एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक सब-डिवीजन का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई होती है।

और डीएम, जिले का सबसे वरिष्ठ प्रशासनिक और राजस्व अधिकारी होता है और जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है। इस मामले में, डीएम उच्च पद का अधिकारी होगा और एसडीएम डीएम के अधीनस्थ होगा।

एसडीएम और डीएम एक ही अधिकारी हो सकते हैं,अन्य राज्यों में, जिसमें डीएम जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है और एसडीएम जिले के भीतर एक उप-मंडल के प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है। इस मामले में एसडीएम और डीएम एक ही रैंक के होंगे।

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) के लिए एक राज्य सिविल सेवा अधिकारी और डीएम के लिए एक Indian Administrative Service (IAS) अधिकारी होना भी संभव है, इस मामले में डीएम उच्च पद का अधिकारी होगा।

What is The Salary of SDM in India? भारत में सब डिविजनल मजिस्ट्रेट का वेतन कितना है?

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) का वेतन उस राज्य पर निर्भर करता है जिसमें वे सेवा कर रहे हैं और उनके वर्षों का अनुभव है। सामान्य तौर पर, एक एसडीएम एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है और उसे वेतन दिया जाता है जो उनके रैंक और जिम्मेदारियों के अनुरूप होता है।

भारत में एक SDM का शुरुआती वेतन लगभग 70,000 रुपये प्रति माह हो सकता है। यह राशि उस राज्य के आधार पर अलग-अलग हो सकती है जिसमें SDM सेवारत है, साथ ही साथ SDM की योग्यता और वर्षों का अनुभव भी होता है।

SDM का वेतन उनके समग्र मुआवजे पैकेज का सिर्फ एक घटक है, जिसमें आवास, परिवहन भत्ता, चिकित्सा बीमा और अन्य लाभ जैसे भत्ते और लाभ भी शामिल हो सकते हैं।

SDO Full Form RBC Full Form PSC Full Form
PHP Full Form PET Full Form PAN Full Form

Is SDM a Police Officer? क्या एसडीएम एक पुलिस अधिकारी है?

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक सब-डिवीजन का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है।

SDM कानून और व्यवस्था बनाए रखने, राजस्व एकत्र करने और उप-विभागीय स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है।

SDM विभिन्न प्रमाण पत्र और लाइसेंस जारी करने के लिए भी जिम्मेदार है, जैसे जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र, और विवादों को हल करने और स्थानीय आबादी की शिकायतों को दूर करने के लिए।

SDM एक पुलिस अधिकारी नहीं है, लेकिन उनके पास अपने उप-मंडल के भीतर कानून व्यवस्था बनाए रखने से संबंधित कुछ शक्तियां और जिम्मेदारियां हैं।

SDM सब-डिवीजन में शांति और व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस के साथ समन्वय करने के लिए जिम्मेदार हो सकता है, और उसके पास सार्वजनिक सभाओं और जुलूसों पर प्रतिबंध लगाने की शक्ति हो सकती है।

हालांकि, कानून और व्यवस्था के दिन-प्रतिदिन के रखरखाव की जिम्मेदारी पुलिस की है।

What is The Power of SDM? एसडीएम की शक्ति क्या होती है?

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) की शक्तियाँ और जिम्मेदारियाँ उस राज्य के आधार पर भिन्न होती हैं जिसमें वे सेवा कर रहे हैं।

एक SDM एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक उप-विभाग का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है। एसडीएम कानून और व्यवस्था बनाए रखने, राजस्व एकत्र करने और उप-विभागीय स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है।

एसडीएम की कुछ विशिष्ट शक्तियों और जिम्मेदारियों में शामिल हो सकते हैं:-

  • • विभिन्न प्रमाणपत्र और लाइसेंस जारी करना, जैसे- जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र, और विवाह प्रमाण पत्र इत्यादि।
  • • विवादों को सुलझाना और स्थानीय आबादी की शिकायतों को दूर करना।
  • • अनुमंडल में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस से समन्वय स्थापित करना।
  • • आवश्यकतानुसार सार्वजनिक सभाओं और जुलूसों पर प्रतिबंध लगाना।
  • • सरकार की ओर से राजस्व एकत्र करना, जैसे भू-राजस्व और कर।
  • • अनुमंडल स्तर पर शासकीय योजनाओं एवं कार्यक्रमों का क्रियान्वयन करना।
  • • आपदा प्रबंधन और राहत प्रयासों में भाग लेना।
  • • जिला निर्वाचन अधिकारी के रूप में कार्य करना तथा अनुमंडल में निर्वाचन कराना।

एसडीएम की शक्तियाँ और जिम्मेदारियाँ उस राज्य के कानूनों और विनियमों के आधार पर भिन्न हो सकती हैं जिसमें वे सेवा कर रहे हैं।

SDM is a class 1 officer? एसडीएम एक वर्ग 1 अधिकारी है?

एक सरकारी अधिकारी का वर्ग 1 या वर्ग 2 अधिकारी के रूप में वर्गीकरण आम तौर पर उस संवर्ग को संदर्भित करता है जिससे वे संबंधित हैं। प्रथम श्रेणी के अधिकारी आमतौर पर वे होते हैं जो Indian Administrative Service (IAS), Indian Police Service (IPS) और Indian Foreign Service (IFS) से संबंधित होते हैं, जबकि वर्ग 2 अधिकारी वे होते हैं जो राज्य सिविल सेवा संवर्ग से संबंधित होते हैं।

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक सब-डिवीजन का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है। कुछ राज्यों में, SDM एक IAS अधिकारी होता है और उसे क्लास 1 अधिकारी के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा।

अन्य राज्यों में, SDM एक राज्य सिविल सेवा अधिकारी होता है और उसे क्लास 2 अधिकारी के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा।

एक अधिकारी का वर्ग 1 या वर्ग 2 के रूप में वर्गीकरण आवश्यक रूप से उनके रैंक या वरिष्ठता के अनुरूप नहीं है। इसके बजाय, यह उस संवर्ग को संदर्भित करता है जिससे वे संबंधित हैं और जिस प्रकार का कार्य वे करते हैं।

Who is More Powerful SDM or Judge? SDM या जज में कौन ज्यादा ताकतवर होता है?

Sub-Divisional Magistrate (SDM Full Form) एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक सब-डिवीजन का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है। SDM कानून और व्यवस्था बनाए रखने, राजस्व एकत्र करने और उप-विभागीय स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है। SDM विभिन्न प्रमाण पत्र और लाइसेंस जारी करने के लिए भी जिम्मेदार है, जैसे जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र, और विवादों को हल करने और स्थानीय आबादी की शिकायतों को दूर करने के लिए।

एक न्यायाधीश एक ऐसा व्यक्ति होता है जो कानून की अदालत की अध्यक्षता करता है और अदालत के सामने लाए गए मामलों की सुनवाई और निर्णय लेने के लिए जिम्मेदार होता है। न्यायाधीशों को भारत के राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किया जाता है और वे निष्पक्ष और निष्पक्ष तरीके से कानून की व्याख्या और लागू करने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

अपनी शक्तियों और जिम्मेदारियों के संदर्भ में, न्यायाधीशों को आमतौर पर एसडीएम से अधिक शक्तिशाली माना जाता है। न्यायाधीशों के पास कानून की व्याख्या करने और उसे लागू करने का अधिकार है, और उनके फैसलों में कानून का बल है। इसके विपरीत, एक SDM की शक्तियां और जिम्मेदारियां अधिक सीमित होती हैं और एक सब-डिवीजन के प्रशासन पर केंद्रित होती हैं।

SDM और जज की कुछ अतिव्यापी जिम्मेदारियां हो सकती हैं, जैसे विवादों को सुलझाना और कानून व्यवस्था बनाए रखना। हालाँकि, अदालत के समक्ष आने वाले मामलों में न्यायाधीश का अंतिम निर्णय होता है, जबकि SDM के फैसलों को उच्च अधिकारियों द्वारा अपील या पलटा जा सकता है।

IIT Full Form IEC Full Form IPI Full Form
GPRS Full Form ECT Full Form DTP Full Form

Who is the Bigger SDM or Collector? बड़ा एसडीएम या कलेक्टर कौन होता है?

सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (SDM Full Form) एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक सब-डिवीजन का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है। एसडीएम कानून और व्यवस्था बनाए रखने, राजस्व एकत्र करने और उप-विभागीय स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है।

कलेक्टर एक जिले में सबसे वरिष्ठ प्रशासनिक और राजस्व अधिकारी होता है और जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है। कलेक्टर जिला स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने, सरकार की ओर से राजस्व एकत्र करने और जिले में विभिन्न सरकारी विभागों के कार्यों का समन्वय करने के लिए जिम्मेदार होता है। कलेक्टर जिले में कानून व्यवस्था बनाए रखने और चुनाव के संचालन की देखरेख के लिए भी जिम्मेदार है।

उनकी शक्तियों और जिम्मेदारियों के संदर्भ में, कलेक्टर को आमतौर पर एसडीएम से उच्च पद का अधिकारी माना जाता है। कलेक्टर जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है, जबकि एसडीएम जिले के भीतर एक उप-मंडल के प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है। SDM और कलेक्टर के बीच सटीक संबंध उस राज्य के आधार पर भिन्न हो सकते हैं जिसमें वे सेवा कर रहे हैं।

Can Any Judge Suspend IAS? क्या कोई जज IAS को सस्पेंड कर सकता है?

भारत में न्यायाधीशों के पास न्यायिक प्रक्रिया के भाग के रूप में भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) अधिकारियों सहित सरकारी अधिकारियों को निलंबित करने का अधिकार है। हालाँकि, एक IAS अधिकारी का निलंबन आम तौर पर एक न्यायाधीश के बजाय सरकार या अधिकारी की रोजगार एजेंसी द्वारा किया जाता है।

यदि किसी आईएएस अधिकारी पर कदाचार का आरोप लगाया जाता है या अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना करना पड़ रहा है, तो सरकार या अधिकारी की रोजगार एजेंसी जांच लंबित रहने तक अधिकारी को निलंबित करने का निर्णय ले सकती है। यह सुनिश्चित करने के लिए एहतियाती उपाय के रूप में किया जाता है कि अधिकारी जांच में हस्तक्षेप नहीं करता है या साक्ष्य के साथ छेड़छाड़ नहीं करता है।

यदि एक IAS Officer पर एक आपराधिक अपराध का आरोप लगाया जाता है, तो मामले की सुनवाई करने वाला न्यायाधीश जमानत की शर्त के रूप में या न्यायिक प्रक्रिया के भाग के रूप में अधिकारी के निलंबन का आदेश दे सकता है। ऐसे मामलों में, निलंबन अस्थायी होगा और परीक्षण के पूरा होने तक या शुल्क समाप्त होने तक प्रभावी रहेगा।

एक IAS Officer का निलंबन एक गंभीर मामला है और असाधारण परिस्थितियों में ही ऐसा किया जाता है। एक IAS अधिकारी को निलंबित करने का निर्णय सरकार या अधिकारी की रोजगार एजेंसी द्वारा उपयुक्त अधिकारियों के परामर्श से लिया जाता है।

Is IAS Equal to Judge? क्या IAS जज के बराबर होता है?

भारत में, भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) एक प्रतिष्ठित और अत्यधिक प्रतिस्पर्धी सिविल सेवा है जबकि न्यायधीश (Judge) निष्पक्ष और निष्पक्ष तरीके से कानून की व्याख्या और लागू करने के लिए जिम्मेदार हैं। जबकि IAS officer और न्यायाधीश दोनों भारत सरकार में महत्वपूर्ण और प्रभावशाली व्यक्ति हैं, उनकी अलग-अलग भूमिकाएं और जिम्मेदारियां हैं।

IAS अधिकारी जिला स्तर और ऊपर के स्तर पर सरकार के प्रशासन के लिए जिम्मेदार होते हैं। वे सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने, सरकार की ओर से राजस्व एकत्र करने और विभिन्न सरकारी विभागों के कार्यों के समन्वय के लिए जिम्मेदार हैं।

न्यायाधीश अदालत के सामने लाए गए मामलों की सुनवाई और निर्णय लेने के लिए जिम्मेदार होते हैं। वे भारत के राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किए जाते हैं और निष्पक्ष और निष्पक्ष तरीके से कानून की व्याख्या और लागू करने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

जबकि IAS Officer और न्यायाधीश दोनों भारत सरकार में महत्वपूर्ण और प्रभावशाली व्यक्ति हैं, उनकी अलग-अलग भूमिकाएं और जिम्मेदारियां हैं और उन्हें उनकी शक्तियों और अधिकार के मामले में समान नहीं माना जाता है।

Is SDM An IAS officer? क्या एसडीएम एक आईएएस अधिकारी है?

सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (SDM Full Form) एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक सब-डिवीजन का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है। कुछ राज्यों में SDM एक भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) अधिकारी होता है, जबकि अन्य राज्यों में SDM एक राज्य सिविल सेवा अधिकारी होता है।

आईएएस भारत में एक प्रतिष्ठित और अत्यधिक प्रतिस्पर्धी सिविल सेवा है, और आईएएस अधिकारी जिला स्तर और ऊपर सरकार के प्रशासन के लिए जिम्मेदार हैं। IAS अधिकारियों का चयन सिविल सेवा परीक्षा नामक एक प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से किया जाता है, जो संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाती है। अपने प्रशिक्षण को पूरा करने के बाद, IAS अधिकारियों को SDM सहित राज्य और केंद्र सरकारों में विभिन्न पदों पर नियुक्त किया जाता है।

Who is The Bigger SDM or DM? बड़ा एसडीएम या डीएम कौन होता है?

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) और जिला मजिस्ट्रेट (DM) के बीच संबंध उस राज्य पर निर्भर करता है जिसमें वे सेवा कर रहे हैं। कुछ राज्यों में SDM एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक सब-डिवीजन का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई होती है।

डीएम जिले का सबसे वरिष्ठ प्रशासनिक और राजस्व अधिकारी होता है और जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है। इस मामले में, डीएम उच्च पद का अधिकारी होगा और एसडीएम डीएम के अधीनस्थ होगा।

अन्य राज्यों में एसडीएम और डीएम एक ही अधिकारी हो सकते हैं, जिसमें डीएम जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है और एसडीएम जिले के भीतर एक उप-मंडल के प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है। इस मामले में एसडीएम और डीएम एक ही रैंक के होंगे।

एसडीएम(SDM Full Form) के लिए एक राज्य सिविल सेवा अधिकारी और डीएम के लिए एक भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) अधिकारी होना भी संभव है, इस मामले में डीएम उच्च पद का अधिकारी होगा।

Is SDM the Same As Collector? क्या एसडीएम कलेक्टर के समान है?

सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (SDM) एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक सब-डिवीजन का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है। एसडीएम कानून और व्यवस्था बनाए रखने, राजस्व एकत्र करने और उप-विभागीय स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है।

कलेक्टर, एक जिले में सबसे वरिष्ठ प्रशासनिक और राजस्व अधिकारी होता है और जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है। कलेक्टर जिला स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने, सरकार की ओर से राजस्व एकत्र करने और जिले में विभिन्न सरकारी विभागों के कार्यों का समन्वय करने के लिए जिम्मेदार होता है। कलेक्टर जिले में कानून व्यवस्था बनाए रखने और चुनाव के संचालन की देखरेख के लिए भी जिम्मेदार है।

उनकी शक्तियों और जिम्मेदारियों के संदर्भ में, कलेक्टर को आमतौर पर एसडीएम से उच्च पद का अधिकारी माना जाता है। कलेक्टर जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है,

जबकि एसडीएम जिले के भीतर एक उप-मंडल के प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है। हालाँकि, SDM और कलेक्टर के बीच सटीक संबंध उस राज्य के आधार पर भिन्न हो सकते हैं जिसमें वे सेवा कर रहे हैं।

NPCI  Full Form NOTA Full Form NIFTY  Full Form
NET Full Form NCR Full Form NAC Full Form

Is PCS Exam Tough? क्या पीसीएस परीक्षा कठिन है?

लोक सेवा आयोग (PCS) परीक्षा राज्य लोक सेवा आयोगों द्वारा राज्य सरकारों में विभिन्न सिविल सेवा पदों के लिए उम्मीदवारों की भर्ती के लिए आयोजित एक प्रतियोगी परीक्षा है। पीसीएस परीक्षा को एक चुनौतीपूर्ण और अत्यधिक प्रतिस्पर्धी परीक्षा माना जाता है, और चयन प्रक्रिया अत्यधिक प्रतिस्पर्धी होती है।

पीसीएस परीक्षा की कठिनाई विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है, परीक्षा में बैठने वाले उम्मीदवारों की संख्या, प्रतियोगिता का स्तर और स्वयं परीक्षा का कठिनाई स्तर। PCS Exam को कुछ अन्य सिविल सेवा परीक्षाओं की तुलना में अधिक प्रतिस्पर्धी माना जाता है, जैसे कि कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) परीक्षा,

लेकिन प्रतिष्ठित संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) सिविल सेवा परीक्षा की तुलना में कम प्रतिस्पर्धी है, जो आयोजित की जाती है। आईएएस, आईपीएस और अन्य केंद्रीय सरकारी सेवाओं के लिए उम्मीदवारों की भर्ती के लिए।

PCS Exam की तैयारी के लिए उम्मीदवारों को आमतौर पर सामान्य ज्ञान, करंट अफेयर्स, अंग्रेजी और जिस राज्य में वे आवेदन कर रहे हैं, उस राज्य की भाषाओं सहित विभिन्न विषयों में एक मजबूत नींव रखने की आवश्यकता होती है।

उम्मीदवारों को विशिष्ट विषयों की तैयारी करने की भी आवश्यकता हो सकती है जो उस पद के लिए प्रासंगिक हैं जिसके लिए वे आवेदन कर रहे हैं, जैसे कि कानून, वित्त या लोक प्रशासन।

What is The Post After SDM Full Form? एसडीएम के बाद पद क्या होता है?

भारत में एक Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) के लिए कैरियर की प्रगति उस राज्य पर निर्भर करती है जिसमें वे सेवा कर रहे हैं और उनका प्रदर्शन। एक SDM एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक उप-विभाग का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है।

एक निश्चित अवधि के लिए SDM के रूप में सेवा करने के बाद SDM को उच्च प्रशासनिक पदों पर पदोन्नति के लिए विचार किया जा सकता है, जैसे:

  • • District Magistrate (DM): जिला मजिस्ट्रेट (DM):-
  • DM एक जिले का सबसे वरिष्ठ प्रशासनिक और राजस्व अधिकारी होता है और जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है।
  • • Divisional Commissioner: संभागीय आयुक्त:-
  • संभागीय आयुक्त एक संभाग के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है, जो एक बड़ी प्रशासनिक इकाई है जिसमें कई जिले शामिल हैं।
  • • Additional Secretary or Joint Secretary in the State Government: राज्य सरकार में अतिरिक्त सचिव या संयुक्त सचिव:
  • ये राज्य सरकार में उच्च प्रशासनिक पद होते हैं, और इन स्तरों पर अधिकारी अपने कर्तव्यों के निर्वहन में सचिव (राज्य सरकार में एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी) की सहायता के लिए जिम्मेदार होते हैं।
  • • Special Secretary or Secretary to the State Government: राज्य सरकार में विशेष सचिव या सचिव:
  • ये राज्य सरकार में सर्वोच्च प्रशासनिक पद होते हैं और इन स्तरों पर अधिकारी राज्य सरकार में एक विभाग या मंत्रालय के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होते हैं।

एक एसडीएम के लिए विशिष्ट करियर प्रगति उस राज्य के कानूनों और विनियमों के आधार पर भिन्न हो सकती है जिसमें वे सेवा कर रहे हैं, साथ ही अधिकारी के प्रदर्शन और योग्यता के आधार पर।

Whose Post is Bigger in IAS or DM? आईएएस या डीएम में किसका पद बड़ा होता है ?

District Magistrate (DM) एक जिले का सबसे वरिष्ठ प्रशासनिक और राजस्व अधिकारी होता है और जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है। डीएम जिला स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने, सरकार की ओर से राजस्व एकत्र करने और जिले में विभिन्न सरकारी विभागों के कार्यों के समन्वय के लिए जिम्मेदार होता है।

भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) भारत में एक प्रतिष्ठित और अत्यधिक प्रतिस्पर्धी सिविल सेवा है, और आईएएस अधिकारी जिला स्तर और ऊपर सरकार के प्रशासन के लिए जिम्मेदार हैं। IAS अधिकारियों का चयन सिविल सेवा परीक्षा नामक एक प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से किया जाता है, जो संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाती है। आईएएस अधिकारियों को डीएम सहित राज्य और केंद्र सरकारों में विभिन्न पदों पर नियुक्त किया जाता है।

डीएम और आईएएस को समान नहीं माना जाता है। DM एक विशिष्ट पद है और एक जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार है, जबकि IAS एक सिविल सेवा संवर्ग है और इसमें जिला स्तर और उससे ऊपर के पदों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है। डीएम अक्सर एक आईएएस अधिकारी होता है, क्योंकि आईएएस भारत में सबसे प्रतिष्ठित और प्रतिष्ठित सिविल सेवा है।

Who is More Powerful DM or IAS? कौन ज्यादा ताकतवर है डीएम या आईएएस?

District Magistrate (DM) एक जिले का सबसे वरिष्ठ प्रशासनिक और राजस्व अधिकारी होता है और जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है। डीएम जिला स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने सरकार की ओर से राजस्व एकत्र करने और जिले में विभिन्न सरकारी विभागों के कार्यों के समन्वय के लिए जिम्मेदार होता है।

भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) भारत में एक प्रतिष्ठित और अत्यधिक प्रतिस्पर्धी सिविल सेवा है, और आईएएस अधिकारी जिला स्तर और ऊपर सरकार के प्रशासन के लिए जिम्मेदार हैं। IAS अधिकारियों का चयन सिविल सेवा परीक्षा नामक एक प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से किया जाता है, जो संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाती है। IAS अधिकारियों को प्रशिक्षण पूरा करने के बाद राज्य और केंद्र सरकारों में विभिन्न पदों पर नियुक्त किया जाता है।

DM एक विशिष्ट पद है और एक जिले के समग्र प्रशासन के लिए जिम्मेदार है, जबकि IAS एक सिविल सेवा संवर्ग है और इसमें जिला स्तर और उससे ऊपर के पदों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है। यह ध्यान देने योग्य है कि डीएम अक्सर एक आईएएस अधिकारी होता है, क्योंकि आईएएस भारत में सबसे प्रतिष्ठित और प्रतिष्ठित सिविल सेवा है।

Frequently Asked Questions. FAQ ....

SDM का फुल फॉर्म क्या है ?

SDM का फुल फॉर्म Sub Divisional  Magistrate होता है। SDM को हिंदी में हम उप प्रभागीय न्यायाधीश कहते है।

SDM के क्या कार्य होते है ?

SDM अपने क्षेत्र में भूमि कार्यों के अलावा राजस्व, वाहनों का पंजीकरण, चुनाव के कार्य, वाहन सम्बंधित कार्य, इत्यादि जैसे प्रमाण पत्र बनाने एवं बनवाने सम्बंधित देखरेख करता है। भूमि से सम्बंधित सभी विभाग SDM के पास रहता है। SDM को आपराधिक प्रक्रिया के मामले के आलावा विभिन्न तरह के न्यायिक कार्य भी करना पड़ता है। 

 SDM हम कैसे बनें ?

SDM दो तरह से बन सकते है।  (1.) UPSC Exam :-  UPSC की Exam पास करने के बाद आप IAS Officer बनते है। लेकिन IAS Officer बनाने के पहले आपको SDM के पद पर चयन मिलता है। उसके कुछ सालों बाद आपको IAS Officer यानि की DM की Post पर नियुक्ति मिलती है।  (2.) PCS Exam:- State PSC की Exam पास कर भी आप SDM यानि उप प्रभागीय न्यायाधीश बन सकते है। इसके लिए आपको PSC की परीक्षा को Top Rank से पास करना होगा। तो आप सीधे SDM बन सकते है। 

SDM का कार्य क्या होता है ?

SDM का कार्य अपने क्षेत्र में भूमि कार्यों से सम्बंधित राजस्व, वाहनों का पंजीकरण, चुनाव के कार्य, वाहन इत्यादि जैसे प्रमाण पत्र बनवाने सम्बंधित कार्य की देखरेख करता है।

भारत में उप मंडल मजिस्ट्रेट कौन है?

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) एक सब-डिवीजन का प्रभारी वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है।

एसडीएम की शक्ति क्या होती है?

Sub Divisional Magistrate (SDM Full Form) की शक्तियाँ और जिम्मेदारियाँ उस राज्य के आधार पर भिन्न होती हैं जिसमें वे सेवा कर रहे हैं। एक SDM एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक उप-विभाग का प्रभारी होता है, जो एक जिले के भीतर एक छोटी प्रशासनिक इकाई है। एसडीएम कानून और व्यवस्था बनाए रखने, राजस्व एकत्र करने और उप-विभागीय स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है।

SDM या जज में कौन ज्यादा ताकतवर होता है?

SDM एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी होता है जो एक सब-डिवीजन का प्रभारी होता है। SDM कानून और व्यवस्था बनाए रखने, राजस्व एकत्र करने और उप-विभागीय स्तर पर सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है। SDM विभिन्न प्रमाण पत्र और लाइसेंस जारी करने के लिए भी जिम्मेदार है, जैसे जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र, और विवादों को हल करने और स्थानीय आबादी की शिकायतों को दूर करने के लिए। एक न्यायाधीश एक ऐसा व्यक्ति होता है जो कानून की अदालत की अध्यक्षता करता है और अदालत के सामने लाए गए मामलों की सुनवाई और निर्णय लेने के लिए जिम्मेदार होता है। न्यायाधीशों को भारत के राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किया जाता है और वे निष्पक्ष औ

Leave a Comment